कृषि कानून के विरोध को लेकर मुरलीधर राव बोले यह विपक्ष का ‘मिस इंफर्मेशन कैंपेन’

भोपाल। भाजपा के प्रदेश प्रभारी-पूर्व राष्ट्रीय महासचिव मुरलीधर राव का कहना है कृषि कानूनों का विरोध विपक्ष की साजिश है, जबकि कश्मीर से कन्याकुमारी तक के किसान कृषि कानून के पक्ष में हैं। जहां तक दिल्ली में विरोध-आंदोलन की बात है तो यह परिपक्व लोकतंत्र को दर्शाता है कि सरकार हर बार चर्चा कर रही है।केंद्र सरकार अभी भी न सिर्फ चर्चा बल्कि कानून में परिवर्तन के लिए भी तैयार है।जबकि मप्र सहित देश के अन्य राज्यों के किसान केंद्र के इस कानून से सहमत हैं। प्रदेश भाजपा समिति की कामकाजी बैठक में शामिल होने आए मुरलीधर राव और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने मीडिया से चर्चा के दौरान कृषि कानून, 26 जनवरी की घटना, विपक्ष के षड़यंत्र, गर्त में जाती कांग्रेस, निकाय चुनाव, किसानों के हित में शिवराज सरकार द्वारा किए गए काम आदि मुद्दों पर चर्चा की। मुरलीधर राव का कहना था कानून बनाने के बाद भी केंद्र के लिए किसान महत्वपूर्ण है, वो गलतफहमी में न रहें सरकार उनसे चर्चा को हमेशा तैयार है, पार्टी कार्यकर्ता भी गांव गांव किसानों से चर्चा कर रहे हैं।26 जनवरी को लाल किला पर हुई घटना के संदर्भ में कहा कि तोड़फोड़-हमले में पंजाब के गैंगस्टर, धोखाधड़ी की वारदातों से जुड़े लोग शामिल हैं। पंजाब सरकार यदि सतर्कता बरतती तो घटना को रोका जा सकता था।
कांग्रेस म्यूजियम पा होने की कगार पर
चुनाव में हारा हुआ हताश विपक्ष किसानों के कंधे पर बंदूक रख कर चला रहा है। भाजपा वर्षों विपक्ष में रही है लेकिन कांग्रेस और उसकी राज्य सरकारों की ऐसी औछी मानसिकता से काम नहीं किया।मप्र में शिवराज सरकार ने किसानों के हित में जो काम किए है उससे एग्रीकल्चर ग्रोथ में वृद्धि हुई है। मप्र में कांग्रेस कुछ समय में म्यूजियम पार्टी हो जाएगी, ढूंढे से पता नहीं चलेगा इसका। इसके लिए भाजपा प्रयास नहीं कर रही है। कांग्रेस के जो अनुभवी नेता रहे हैं, वही यह काम कर रहे हैं ।

admin