कोरोना के 131 नए मरीज पॉजिटिव, दो की मौत

इंदौर। कोरोना संक्रमण शहर में लगातार बढ़ रहा है। शुक्रवार रात 131 मरीज पॉजिटिव िमले। दो लोगों की संक्रमण के कारण मौत हो गई। इस बीच टीकाकरण को लेकर पहले और दूसरे चरण में बचे हुए हैल्थ केयर व फ्रंट लाइन वर्कर्स में जागरुकता लगातार कम होती जा रही है। पांचवें दौर से लगातार टीकाकरण कम होता जा रहा है। मॉपअप राउण्ड में भी पहले दौर में स्थिति यह रही कि मात्र 21 फीसदी ही टीकाकरण हुआ। इस कमजोरी के बीच 20 फरवरी से कोरोना का दूसरा डोज शुरू होगा जिसमें हैल्थ केयर वर्कर्स को टीके लगाए जाएंगे।

शुक्रवार को बचे हुए हैल्थ केयर व फ्रंट लाइन वर्कर्स के टीकाकरण के लिए 34 सेंटर बनाए गए थे। इनमें 5419 वर्कर्स को टीके लगाने का लक्ष्य था। इनमें से 1131 ने टीके लगवाए जबकि 4288 ने नहीं पहुंचे। इस तरह मात्र 21 फीसदी टीकाकरण हुआ। इसके पूर्व पांचवें दौर में पांचवां दौर 50 फीसदी, छठे दौर में 28 फीसदी, सातवें दौर में 24 फीसदी और आठवें दौर 23 फीसदी टीकाकरण हुआ जो घटकर मॉप राउण्ड में और कम 21 फीसदी हो गया।

दूसरे डोज के लिए आज पांच सेंटर
इधर, भले ही अभी बचे हुए हैल्थ केयर व फ्रंट लाइन वर्कर्स के टीकाकरण के लिए मॉपअप राउण्ड चल रहे हो लेकिन जिन हैल्थ वर्कर्स ने 16 जनवरी (टीकाकरण का पहला दिन व पहला चरण) में टीके लगवाए थे, उन्हें आज दूसरा डोज लगाया जाएगा। इसके लिए एमवाय अस्पताल, अरबिंदो, राजश्री अपोलो, कर्मचारी राज्य बीमा अस्पताल सहित पांच सेंटर बनाए गए हैं।

टीका लगवाने के बाद रात को बिगड़ी मेडिकल छात्र की तबियत
इसके पूर्व गुरुवार को टीका लगवाने के बाद रात को एक मेडिकल छात्र की तबियत खराब हो गई जिसे एमवाय अस्पताल में भर्ती किया गया है। इंदौर निवासी अनुराग चौहान (ठाकुर) नामक इस मेडिकल छात्र को रात को एलर्जी होने लगी। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. तरुण गुप्ता ने बताया कि मेडिकल में इसे रेशेज कहा जाता है। अनुराग को यह एलर्जी दोबारा हुई थी जिसके चलते उसे भर्ती किया गया। सीधे तौर पर इसका टीके से कोई रिएक्शन नहीं है। उसकी हालत अच्छी है और ऑब्जर्वेशन में है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार को जारी बुलेटिन में इस वर्कर को एडवर्स इफेक्ट फॉलोइंग इम्युनाइजेशन (एईएफआई) की श्रेणी में लिया गया है।

admin