इंदौर में 159 नए पॉजिटिव

नगर संवाददाता | इंदौर

एमवाय हॉस्पिटल की ब्लड बैंक के टेक्नीशियन को भी किया आइसोलेट, 14 सहयोगियों की भी होगी जांच

नंबर्स देखकर घबराएं नहीं… इंदौर में दो दिन में करीब 269 नए केस आए। दिल्ली से मिली ये रिपोर्ट उन लोगों की है जो पहले से क्वारंटीन हैं, यानी इस संख्या के पीछे संक्रमण का फैलना या नए मामले नहीं हैं।

शहर में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण को लेकर हालात चिंताजनक हो गए हैं। सोमवार रात पॉजिटिव का आंकड़ा जहां 427 था, बुधवार को दिल्ली से आई रिपोर्ट में 159 बढ़ गए और 591 तक जा पहुंचा। अब तक 37 लोगों की मौत हो चुकी है। वैसे बुधवार को 2 और मौतों की सूचना है।

पॉजिटिव में पूर्वी क्षेत्र के एक अन्य टीआई भी हैैं जिन्हें आइसोलेट किया गया है। उक्त टीआई की पूर्व की रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। जिन दो लोगों की मौत की सूचना है उनमें एक खजराना निवासी व्यक्ति जबकि दूसरा गैस एजेंसी संचालक है। इसी प्रकार पूर्व पार्षद नंदकिशोर पांचाल व एक रिटायर्ड हेड कांस्टेबल राजाराम ढाकोने की मौत हो गई। इन दोनों की रिपोर्ट अभी नहीं मिली है।

मंगलवार को जो लोग पॉजिटिव पाए गए थे और जिन दो लोगों की मौत हुई थी उनके पतों के आधार पर जिला प्रशासन ने नए कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित किए हैं। ये क्षेत्र बापू नगर, पंचमूर्ति नगर, एमआईजी कॉलोनी, जय भवानी नगर, कागदीपुरा, बक्षी बाग, बोहरा बाजार, नेतराम का बगीचा, भोलराम उस्ताद मार्ग, स्कीम 51 बॉम्बे जिम (आस्था टाकीज के पास), किरवानी मोहल्ला (महू), गली मस्जिद) महू, बिचौली मर्दाना, सांखला कॉलोनी, श्रीनगर एक्सटेंशन, सेंट्रल जेल, मानसरोवर कॉलोनी (देवगुराडिया), नंदन नगर, स्कीम 140, साउथ राज मोहल्ला, भागीरथपुरा आदि हैं। इनके लिए अधिकारियों की जवाबदेही तय की गई है। उधर, पॉजिटिव मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर एमटीएच अस्पताल में समुचित इलाज के लिए एमजीएम मेडिकल कॉलेज व एमवाय अस्पताल ने 9 विशेष दल बनाए हैं जो वहां सेवाएं देंगे। कमिश्नरर आकाश त्रिपाठी ने घर-घर जाकर किए जा रहे सर्वे कार्य को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए कार्ययोजना तैयार की है। इसका कड़ाई से पालन करने को कहा गया है।

बे-नाम से इक ख़ौफ़ से क्यों दिल है परेशां जब तय है कि कुछ वक्त से पहले नहीं होगा

मशहूर शायर शहरयार ने ये शेऱ मौसम पर लिखा, पर आज कोरोना के दौर में भी उतना ही मौजूं है। जैसे वक्त के पहले न पतझड़ जाता है,न सावन आता है, वैसे ही कोरोना की मियाद (14 दिन ) तय है। तीन मई तक घर में रहिये, सड़कों पर सावन लौट आएगा।

टाटपट्टी बाखल ने दो सप्ताह में कई रंग देखे। स्वास्थ्य विभाग की टीम पर हमला, फिर तालियों से स्वागत। बुधवार को तस्वीर में इसी इलाके के एक पेड़ पर पतझड़ और सावन दोनों साथ दिखाई दे रहे हैं। पेड़ पर सूखी टहनियां के बीच कुछ हरी पत्तियां भी दिखाई दे रही हैं, मानों कह रही हो कोई भी संक्रमण आ जाए, ज़िंदगी ज़िंदाबाद रहेगी।

admin