18वीं फेडेरेशन कप जूनियर अंडर-20 राष्ट्रीय एथलेटिक्स चैम्पियन का शुभारंभ

चयनित खिलाड़ी नैरोबी विश्व चम्पियनशिप में करेंगे देश का प्रतिनिधित्व

भोपाल। भोपाल के तात्या टोपे स्टेडियम में सोमवार को 18वीं फेडेरेशन कप जूनियर अंडर-20 राष्ट्रीय एथलेटिक्स चैम्पियनशिप की शुरूआत हुई। पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी ने तीन दिवसीय प्रतियोगिता का शुभारंभ किया। खेल संचालक पवन कुमार जैन ने बताया कि इस चैम्पियनशिप में देशभर के 20 राज्यों के कुल 500 से अधिक बालक एवं बालिका खिलाड़ी भागीदारी कर रहे हैं। मध्यप्रदेश की टीम में 24 बालक और 15 बालिकाओं सहित कुल 39 खिलाड़ी प्रतियोगिता का हिस्सा लेंगे। इस चैम्पियनशिप से चयनित खिलाड़ी 17 से 22 अगस्त 2021 को नैरोबी (केन्या) में आयोजित जूनियर विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में देश का प्रतिनिधित्व करेंगे।

कोरोना काल में ऐसा आयोजन एक साहस भरा निर्णय: जौहरी
पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी ने प्रतियोगिता का शुभारंभ अवसर पर कहा कि कोरोना काल में सबसे बड़ी राष्ट्रीय प्रतियोगिता की मेजबानी करना एक साहस भरा निर्णय है। उन्होंने खेल विभाग को बधाई देते हुए कहा कि कोरोना के सभी नियमों का पालन और ऐहतियात बरतते हुए यह आयोजन किया जा रहा, जो प्रशंसनीय है। उन्होंने विभिन्न राज्यों से शामिल हुए प्रतिभागी खिलाडिय़ों की प्रशंसा करते हुए कहा कि खिलाडिय़ों ने कई मायनों में अपना फिटनेस और यहाँ पर की गई व्यवस्थाओं पर भरोसा किया है। जौहरी ने खिलाडिय़ों को सभी नियमों का पालन करते हुए सुरक्षित रहकर अच्छे प्रदर्शन के लिए शुभकामनाएं दीं।

टीटी नगर स्टेडियम बना मिनी इंडिया
कार्यक्रम के विशिष्ठ अतिथि मुख्य आयकर आयुक्त राकेश कुमार पालीवाल ने कहा कि आज इस आयोजन से भोपाल के टीटी नगर स्टेडियम में एक मिनी इंडिया दिखाई दे रहा है। उन्होंने कहा कि हमारे जमाने में यह परम्परा थी कि खेलने के लिए माता-पिता ज्यादा समय नहीं देते थे। पढ़ाई ज्यादा जरूरी होती थी। वर्तमान में माहौल बदल गया है। अब अपनी प्रतिभा को राष्ट्रीय-अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर दिखाने का मौका मिल रहा है। पालीवाल ने कहा कि मध्यप्रदेश अब खेलों में सिरमौर बन रहा है। उनकी पदक तालिका में लगातार इजाफा हो रहा है। अब आदिवासी अंचलों में भी खेल परम्परा सुदृढ़ हो रही है। ग्रामीण अंचलों की प्रतिभाएं तीरंदाजी जैसे पांरम्परिक खेलों में स्वर्ण पदक हासिल कर रहे है। उन्होंने खिलाडिय़ों का हौसला अफजाई करते हुए कहा कि हार-जीत से नहीं अपने खेल में उत्कृष्ठतम प्रदर्शन देना आवश्यक है।

कड़ी मेहनत, त्याग और तपस्या सफलता के रहस्य
खेल संचालक पवन कुमार जैन ने कहा कि देश में किसी राष्ट्रीय प्रतियोगिता का यह पहला आगाज है। मध्यप्रदेश लगातार विभिन्न खेलों में अपना परचम और उपस्थिति अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर कायम रखने में कामयाब रहा है। उन्होंने बताया कि रविवार को म.प्र. रोइंग अकादमी के खिलाड़ी मेहुल कृषनानी और खुशप्रीत कौर ने दो-दो स्वर्ण पदक अर्जित कर वल्र्ड चैम्पियनशिप के लिए क्वालीफाई किया है। पहली बार वर्चुअल एशियन चैम्पियनशिप में पूरे एशिया से खिलाडिय़ों ने ऑनलाईन भागीदारी की थी।

खेल संचालक जैन ने प्रतिभागी खिलाडिय़ों से कहा कि सफलता का कोई शार्टकट नहीं होता, कोई भी बिना मेहनत के रोनाल्डो या सचिन तेन्दुलकर नहीं बनता। कड़ी मेहनत, त्याग और तपस्या से ही इनका नाम दुनिया के पटल पर शीर्ष पर है। उन्होंने कहा कि देश में प्रतिभाओं की कमी नहीं है सिर्फ उन्हें तराशने की जरूरत है। खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया के नेतृत्व में विभाग लगातार नवाचार करते हुए खिलाडिय़ों को बेहतर प्रशिक्षण और आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध करवा रहा है।

कार्यक्रम में मप्र रोइंग अकादमी के स्वर्ण पदक खिलाड़ी मेहुल कृष्णणानी और खुशप्रीत कौर तथा अकादमी के प्रशिक्षक कैप्टन दलबीर सिंह को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। कार्यक्रम की शुरूआत में म.प्र. मलखम्ब अकादमी के बच्चों ने हनुमान चालीसा की धुन पर मलखम्भ का प्रदर्शन भी किया। इस अवसर पर खेल एवं युवा कल्याण विभाग प्रमुख सचिव  पंकज राग, एडीजी उपेन्द्र जैन उपस्थित थे। सैफ गेम्स नेपाल में स्वर्ण पदक विजेता सुनील डावर ने खिलाडिय़ों को शपथ दिलाई।

admin