ऐसे..नौ कोरोना पॉजिटिव वाले गांव में 200 लोगों ने स्वास्थ्य टीम को घेरा, गांव में घुसने पर जान से मारने की दी धमकी

प्रजातंत्र ब्यूरो | भोपाल

रायसेन के मुस्लिम बहुल अल्ली गांव में लोगों ने जांच करवाने से किया इनकार

राजधानी से सटे रायसेन जिले में कोरोना पॉजिटिव की संख्या 26 होने के बाद पास के मुस्लिम बहुल गांव अल्ली में सर्वे करने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम को वहां घुसने नहीं दिया गया। इस गांव के 9 लोग कोरोना पॉजिटिव आए हैं जो रायसेन के कोविड केयर यूनिट में भर्ती है। करीब 200 ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को गांव में घुसने से रोक दिया। इनका कहना था कि हमारा क्वारंटाइन समय पूरा हो गया है तो परेशान क्यों किया जा रहा है। यह टीम कोरोना पॉजिटिव मरीजों की हिस्ट्री और उनके परिजनों की स्क्रीनिंग करने गई थी। मुस्लिम बाहुल्य यह गांव रायसेन से 8 किमी दूर है। मंगलवार और बुधवार को आई 18 लोगों की पॉजिटिव रिपोर्ट में से 9 इस गांव के हैं। ग्रामीणों ने पुलिस-राजस्व और स्वास्थ्य अमले से कहा कि अगर जबरदस्ती की तो परिणाम अच्छे नहीं होंगे।

वे लोग किसी भी कीमत पर जांच को राजी नहीं

हम यहां बीएमओ साहब और स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ सर्वे करने आए थे। लोगों की जांच करते, उसके पहले ही ग्रामीणों ने हमें गांव के अंदर जाने से मना कर दिया। – डॉ. सुरेश यादव, टीम के सदस्य

डॉक्टरों पर हमला अब गैर जमानती अपराध, 7 साल तक की हो सकती है जेल

नई दिल्ली। देश में डॉक्टरों पर हमले को देखते हुए केंद्र सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। सरकार इनकी सुरक्षा के लिए एक अध्यादेश लाई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई कैबिनेट की बैठक में 123 साल पुराने कानून में बदलाव का फैसला किया गया। अध्यादेश के तहत डॉक्टरों और अन्य हेल्थकर्मियों पर हमला करने वालों को अधिकतम 7 साल तक की सजा हो सकती है। हमला अब गैरजमानती अपराध होगा। हमलावरों पर 50 हजार से 2 लाख के जुर्माने का प्रावधान है। 3 महीने से 5 साल की सजा भी हो सकती है। गंभीर चोट के मामले में 6 महीने से 7 साल तक की सजा हो सकती है। जुर्माना 1 से 5 लाख तक होगा।

admin