इंदौर में 27 पॉजिटिव, अब तक दो मौत

नगर संवाददाता | इंदौर

अपनी और लाखों ज़िंदगियों को जोखिम में डालते हुए लोग बेशर्मी से सड़कों पर घूम रहे हैं। दूध को बच्चों के लिए जरुरी समझते हुए प्रशासन ने इंसानियत के नाते थोड़ी ढील दी, बस हुजूम निकल पड़ा संक्रमण की चेन को जोड़ने। एक मीटर की दूरी तो ये जानते ही नहीं। सोचते तक नहीं कि जिसके लिए दूध लेकर जा रहे हैं कम से कम उस बच्चे की ज़िंदगी की तो फ़िक्र करें। प्रशासन को पूरी ताकत से इन्हें घर में रखना होगा। ये ऐसे नहीं सुधरेंगे।

खतरनाक कोरोना वायरस को लेकर इंदौर की स्थिति चिंताजनक होती जा रही है। इंदौर और उज्जैन की पट्टी कोरोना संक्रमण का केंद्र बन गई है। सोमवार को सैंपल रिपोर्ट में 8 पॉजिटिव मरीज मिले। इनमें से 7 इंदौर के व एक उज्जैन का है। इस बीच एक कोरोना पॉजिटिव 47 वर्षीय इंदौर के नूरानी नगर धार रोड निवासी की मौत हो गई। उज्जैन में भी एक युवक ने दम तोड़ दिया। इसके पहले रानीपुरा के एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है। अब तक की स्थिति के अनुसार इंदौर में कुल 27 पॉजिटिव पाए गए, जिनमें से इंदौर के दो और उज्जैन की एक महिला की मौत हुई है। एक अन्य उज्जैन का है। इस तरह प्रदेश में अब तक चार मौत हुई और चारों इंदौर-उज्जैन में है। अभी 28 पॉजिटिव इलाजरत हैं, जिनमें से 25 इंदौर के हैं व 3 उज्जैन के हैं।

रिपोर्ट के अनुुसार जो 8 पॉजिटिव आए हैं उनमें 1 बॉम्बे हॉस्पिटल, 6 एमआरटीबी तथा 1 माधव नगर अस्पताल, उज्जैन में भर्ती है। 3 मरीजों में कांटेक्ट हिस्ट्री पाई गई है। इंदौर के पॉजिटिव 7 मरीजों में से 1 अहिल्या पल्टन, 1 आजाद नगर, 1 रवि नगर, 1 नॉर्थ राजमोहल्ला, तीन सांईराम कॉलोनी, एमआर-9 रोड के रहने वाले हैं। विभाग के पास 29 मार्च को 70 सेम्पल थे जिनमें से 40 को एम्स,भोपाल में जांचा गया। इंदौर के जिस 47 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई है वह नूरानी नगर, धार रोड का रहने वाला है। इसके पूर्व एक इंदौर के ही 65 वर्षीय वृद्ध तथा उज्जैन की एक बुजुर्ग महिला की मौत हो चुकी है।

झंडाचौक में 70 को घरों से निकालकर किया क्वारंटाइन

झण्डा चौक, हाथीपाला, रानीपुरा से सोमवार रात सौ से ज्यादा लोगों को अलग-अलग वाहनों में बायपास स्थित होटलों व मैरिज गार्डन में ले जाया गया। स्वास्थ्य विभाग व पुलिस के मुताबिक यहां इन्हें क्वारंटाइन किया जा रहा है।

प्रशासन सख्त…आज से दूध लेने भी बाहर नहीं निकल पाएंगे

सोमवार शाम को दूध वितरण के दौरान सड़कों पर निकली भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने सख्त रवैया अपनाते हुए लोगों को दी जाने वाली छूट वापस ले ली। प्रशासन ने दूध वितरण को लेकर शाम 5 से 7 बजे और सुबह 8 से 10 बजे तक की छूट को बरक़रार रखा पर ये जनता के लिए नहीं है। इस टाइम में बंदी और डेयरी के दूध संचालक घर-घर पैकेट वितरित कर सकेंगे।

संक्रमण का दायरा बढ़ा, अब 17 इलाके कंटेनमेंट

नगर निगम ने कोरोना पॉजिटिव मरीजों के 17 क्षेत्रों को कंटेनमेंट (एपिसेंटर) घोषित किया है। ये क्षेत्र नूरानी नगर, लिंबोदी, चंदन नगर, रानीपुरा, स्नेह नगर, मनीष बाग, निपानिया, टाट पट्टी बाखल, दौलतगंज, दाउदी नगर, खातीवाला टैंक, श्रीनगर कांकड़, कोयला बाखल, गुमाश्ता नगर, हाथीपाला आदि हैं। दूसरी ओर आईजी विवेक शर्मा ने कोरोना प्रभावित खजराना और रानीपुरा का दौरा किया और पुलिसकर्मियों को पीपीपी किट्स उपलब्ध कराए। ड्रोन कैमरों से ऐसे लोगों की पहचान कर कार्रवाई की जा रही है जो बेवजह घूमते हैं।

300 संदिग्ध लोगों को भेजा क्वारंटाइन हाउस

अब तक जितने भी पॉजिटिव मरीज आए हैं उनकी हिस्ट्री खंगालकर उनके संपर्क में आए लोगों को क्वारंटाइन करने में जुटा है। इस कड़ी में खजराना में 16, रानीपुरा में 12, निपानिया में 6 और माणिकबाग में रहने वाले 9 लोगों सहित कुल 43 लोगों के सेम्पल लिए हंै। जिनकी रिपोर्ट सोमवार देर रात तक नहीं आई। कोरोना के पॉजिटिव मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए प्रशासन ने स्वास्थ्य विभाग की 15 टीमें बनाई हैं। अरबिंदो अस्पताल को भी कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए अधिग्रहित किया गया है। प्रशासन ने 300 से ज्यादा लोगों को क्वारंटाइन हॉउस में भेजा है।

कोविड अस्पतालों ने शुरू किया काम : इस बीच प्रशासन ने एमआरटीबी को कोविड अस्पताल घोषित किया है जहां सिर्फ पॉजिटिव मरीजों को भर्ती किया गया है। इसके तहत निजी अस्पतालों में भर्ती सभी कोरोना पॉजिटिव मरीजों को यहां रैफर कर दिया गया। गंभीर सांस संबंधी मरीज जो कोरोना पॉजिटिव नहीं है उन्हें एमवायएच के चेस्ट वार्ड में रखा गया है जबकि सामान्य सर्दी-खांसी के मरीजों की जांच एमवायएच की नई ओपीडी (तलघर) में की जा रही है।

admin