इंदौर में विदेश से आए 2820 लोग पूरी तरह स्वस्थ

नगर संवाददाता | इंदौर

10 में बीमारी के प्रारंभिक लक्षण नजर आए ,कंटेनमेंट एरिया में सेनेटाइजेशन

कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन ने नगर निगम को 3150 लोगों की सूची सौंपी थी, जो हाल ही के दिनों में विदेश से इंदौर लौटे हैं। इस पर नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने संयुक्त सर्वे किया। प्राथमिक तौर पर नगर निगम के राजस्व विभाग द्वारा इन लोगों के घरों पर भौतिक सत्यापन कर यह देखा गया कि जो लोग विदेश से लौटे हैं उन्हें कोरोना के लक्षण हैं या नहीं। निगम ने यह सर्वे अब पूरा कर लिया है।

निगम आयुक्त आशीष सिंह ने बताया कि 3150 में से 2880 ऐसे लोग मिले, जो नगर निगम सीमा में हैं। यहां पर निगम की टीम ने सर्वे किया है। इसके अलावा 270 ऐसे लोग ऐसे पाए गए हैं, जो नगर निगम सीमा से बाहर हैं, इसलिए इनका सर्वे निगम ने नहीं किया है। निगम के सर्वे में अब तक यह बात सामने आई है कि 10 लोग ऐसे हैं जिनमें कोरोना संक्रमण के प्रारंभिक लक्षण पाए गए, जैसे शरीर का तापमान अधिक होना, सर्दी-खांसी, बदन दर्द होने जैसी परेशानी बताई गई है। इन परेशानियों को सर्वे में उल्लेखित किया है। वहीं 50 लोग ऐसे मिले हैं जो अपने घर पर नहीं थे और भौतिक सत्यापन के दौरान यहां ताला लगा पाया गया है। इसके अलावा बचे हुए 2820 लोग ऐसे पाए गए हैं जो पूरी तरह से स्वस्थ हैं और उनमें किसी भी प्रकार का कोई लक्षण नहीं पाया गया।

निगम नगर निगम ने यह सर्वे रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को सौंप दी है, जिसमें निगम ने संबंधित व्यक्ति का मोबाइल नंबर और इमरजेंसी मोबाइल नंबर के रूप में किसी परिजन के नंबर का भी उल्लेख किया है। वहीं निगम सीमा से बाहर जिन 270 लोगों के पते पाए गए हैं उनके सर्वे की कार्रवाई जिला पंचायत द्वारा की जाएगी।

जिला प्रशासन द्वारा कंटेनमेंट एरिया घोषित करने के बाद शुक्रवार सुबह निगम की 10 प्रेशर मशीन इन क्षेत्रों में सेनेटाइजेशन के लिए केमिकल छिड़काव किया गया। नगर निगम स्वास्थ्य अधिकारी अखिलेश उपाध्याय ने बताया कि खजराना, निपानिया, रानीपुरा, खातीवाला टैंक, चंदन नगर, स्कीम-71, सेक्टर डी, मनीष बाग सहित स्नेह नगर में नगर निगम द्वारा पहले से ही विशेष तौर पर सेनेटाइज किया गया है। लेकिन जिला प्रशासन द्वारा कल शाम क्षेत्रों को कंटेनमेंट एरिया घोषित करने के बाद यहां सतर्कता बढ़ा दी गई है। वर्तमान में बायोक्लीन और सोडियम हाइपोक्लोराइट केमिकल की खपत 4000 लीटर रोजाना है। यह खपत बढ़ेगी इसलिए सभी केमिकल सप्लायर को सप्लाय बढ़ाने की निर्देश दिए हैं। आगामी समय में यह संख्या 10 हजार लीटर प्रतिदिन हो सकती है। वेंडरों ने यह आश्वस्त किया है कि शहर को 21 दिन बाद भी सेनेटाइज करने के लिए केमिकल की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी।

शेष 270 लोगों का सर्वे जिपं विभाग कर रहा है।

प्रशासन की ओर से निगम को 3150 लोगों की सूची उपलब्ध कराई गई थी। इनमें से निगम सीमा में आने वाले 2880 में से 2820 पूरी तरह स्वस्थ पाए गए। 270 लोग निगम सीमा से बाहर आते हैं, जिनका सर्वे जिला पंचायत द्वारा किया जाएगा।
-आशीष सिंह, निगम आयुक्त

admin