कोरोना के बाद इस अफ़वाह के कारण 300 लोगों की मौत

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

कोरोना वायरस से इटली, स्पेन और ईरान में तो हालात बेहद ही खराब हैं। इन देशों में इस महामारी से हजारों लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि लाखों लोग संक्रमित हैं। सोशल मीडिया पर अफवाहों का दौर जारी है। अभी कुछ समय पहले यह वायरल हुआ था कि शराब पीने से कोरोना का संक्रमण नहीं होगा, जबकि यह झूठ है।

अल्कोहल के बाद नए अफ़वाह का असर

‘अल्कोहल पीने से कोरोना ठीक हो सकता है’, अफवाह अब भी लोगों में फैल रही है और अगर लोग ऐसे ही इसका सेवन करते रहे तो अभी कई लोग इस जहर के शिकार होंगे।

कुछ ऐसा ही आज कल ईरान में वायरल हो रहा है। यहां एक फेक न्यूज वायरल हुई थी, जिसके मुताबिक मेथेनॉल पीकर कोरोना वायरस को दूर भगाया जा सकता है। समाचार वेबसाइट डेली मेल ने ईरानी मीडिया के हवाले से बताया है कि लोगों ने भी इस झूठ को सच मान लिया और बड़ी संख्या में लोग मेथेनॉल पीने लगे, जिसका नतीजा ये हुआ कि इसे पीने से 300 लोगों की मौत हो गई, जबकि 1000 से ज्यादा लोग बीमार हैं। उनकी हालत नाजुक बनी हुई है। 

मेथेनॉल प्वाइजनिंग को लेकर क्या कहते हैं डॉक्टर

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक हेल्थ केयर वर्कर ने बताया कि एक पांच साल के बच्चे को उसके माता-पिता ने वायरल खबर सुनकर उसे मेथेनॉल पिला दिया, जिसके बाद वह अंधा हो गया। 

ओस्लो में मेथेनॉल प्वाइजनिंग पर अध्ययन करने वाले डॉ नॉट एरिक ने कहा कि ईरान में वायरस फैल रहा है और लोग इससे तेजी से मर रहे हैं और मुझे लगता है कि वे इस तथ्य के बारे में भी कम जानते हैं कि आस-पास अन्य खतरे भी हैं। उन्होंने आशंका जताई कि ईरान में कोरोना का प्रकोप और भी बदतर हो सकता है।

मेथेनॉल क्या बला है

मेथेनॉल नशीला पदार्थ होता है। मेथेनॉल एक कार्बनिक यौगिक होता है जो हल्का, वाष्पशील, रंगहीन और ज्वलनशील होता है, जिसकी गंध एथेनॉल (पेय अल्कोहल) जैसी होती है, लेकिन यह जहरीला होता है। इसे पीने से इंसान मर सकता है और मरने से पहले वह अंधा भी हो सकता है।

admin