केबीसी विजेता घोषित कर युवक से ठग लिए 6 लाख रुपए

नीतेश तापड़िया | बाग

 व्हाट्सअप पर फर्जी सर्टिफिकेट भेजकर ऐंठी राशि

बधाई हो आप केबीसी में व्हाट्स एप विनर बन गए हैं। आप 25 लाख रुपए जीत चुके हैं। इस प्रकार का सर्टिफिकेट बाग के समीपस्थ ग्राम पिपरियापानी के युवक के व्हाट्सएप पर आया और फिर शुरू हुआ ठगी का सिलसिला। 25 लाख रुपये प्राप्त करने की चाह में 15 दिन के अंतराल में इनकम टैक्स, एनओसी, बीमा, बैंक डिमांड, करेंसी चेंज आदि के नाम पर जालसाज द्वारा दिए गए खाते में इस युवक द्वारा 6 लाख की राशि डाल दी गई, किंतु हाथ में कुछ नहीं आया। अब जालसाज गिरोह द्वारा 1 लाख 80 हजार रुपए खाते में और डालने का कहा जा रहा है। ठगी के शिकार इस युवक द्वारा अपने रिश्तेदारों व परिचितों से उधार लेकर 6 लाख की राशि जुटाई गई। मुफ्त के धन पाने की ललक में अपने 6 लाख रुपये गंवाने वाला युवक ग्रेजुएट है। 6 लाख के बाद 1 लाख 80 हजार रुपए और मांगने पर उसे अहसास हुआ कि वह ठगी का शिकार हो गया है।

ग्राम पिपरिया पानी के युवक दिनेश पिता बनसिंह मुझालदा ने बताया कि 28 जुलाई को मेरे व्हाट्सअप पर हनीफ नामक व्यक्ति ने उसके केबीसी विनर बनने व 25 लाख रुपए जीत जाने का मैसेज व सर्टिफिकेट भेजा। इसके बाद उसने मुझसे इनकम टैक्स, एनओसी, करेंसी चेंज, टीडीएस, बैंक डिमांड आदि के नाम पर क्रमशः 4 लाख की राशि बैंक ऑफ इंडिया व भारतीय स्टेट बैंक की सीतामढ़ी व कोलकाता शाखा के इरशाद आलम, समीमा, संजय कुमार, रणाधीर कुमार, रविशंकर, संजयसिंह आदि के खातों में डलवाने के बाद 25 लाख का चेक मोबाइल पर दिखाया और कहा कि अब ये आखिरी अमाउंट डाल दो, आपके खाते में 25 लाख की राशि आ जाएगी, इसके बाद मुझे एक और खुशखबरी दी गई कि आप 85 लाख की टोयोटा कार भी जीत चुके हो। 25 लाख का चेक व टोयोटा कार दोनों साथ में दिए जाएंगे। कार का रजिस्ट्रेशन शुल्क 2 लाख 10 हजार है, मेरे द्वारा तीन बार में 2 लाख 10 हजार की राशि भी जमा कर दी गई। इसके बाद अब इनकम टैक्स के नाम पर 1 लाख 80 हजार की और मांग की जा रही है।

admin