पिछले वर्ष के 68.02 मिलियन टन की तुलना में 69.36 मिलियन टन माल लदान

मुंबई। पश्चिम रेलवे की विशेष पार्सल ट्रेनें अत्‍यावश्‍यक वस्‍तुओं की आपूर्ति जारी रखने के लिए पूरे देश में लगातार चल रही हैं और लॉकडाउन में अभी तक पश्चिम रेलवे ने 891 विशेष पार्सल ट्रेनें चलाई हैं। इसी क्रम में 12 फरवरी, 2021 को पश्चिम रेलवे के बांद्रा टर्मिनस से जम्‍मू तवी और राजकोट से कोयम्‍बटूर के बीच दो विशेष पार्सल ट्रेनें चलाई गईं। उल्‍लेखनीय है कि चालू वित्‍तीय वर्ष में 11 फरवरी, 2021 तक माल लदान पिछले वर्ष के 68.02 मिलियन टन की तुलना में 69.36 मिलियन टन रहा है।
पश्चिम रेलवे के मुख्‍य जनसम्‍पर्क अधिकारी सुमित ठाकुर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार 23 मार्च, 2020 से 11 फरवरी, 2021 तक लगभग 2.56 लाख टन वजन के सामान की ढुलाई पश्चिम रेलवे की 891 पार्सल विशेष ट्रेनों के माध्‍यम से हुई, जिनमें मुख्‍य रूप से कृषि उत्‍पाद, दवाइयां, मछली, दूध आदि शामिल हैं। इस परिवहन से लगभग 90 करोड़ रु. के राजस्‍व की प्राप्ति हुई। इस अवधि के दौरान पश्चिम रेलवे द्वारा 165 मिल्‍क स्‍पेशल ट्रेनें चलाई गईं, जिनके जरिये 1.23 लाख टन से अधिक लदान के साथ वैगनों का शत-प्रतिशत उपयोग किया गया।
इसी प्रकार 587 कोविड-19 विशेष पार्सल ट्रेनें 73 हजार टन से अधिक लदान के साथ विविध आवश्‍यक सामग्री के परिवहन के लिए चलाई गईं। इनके अतिरिक्‍त 103 इडेंटेड रेकों के शत-प्रतिशत उपयोग के साथ 46 हजार टन की ढुलाई की गई। पश्चिम रेलवे द्वारा अभी तक 36 किसान विशेष ट्रेनों का परिचालन किया गया है। पश्चिम रेलवे द्वारा लॉकडाउन अवधि के दौरान 22 मार्च, 2020 से 11 फरवरी, 2021 तक कुल 31,008 मालगाड़ियों के रेकों का उपयोग कर 68.92 मिलियन टन आवश्‍यक सामग्री की आपूर्ति की गई। 63,921 फ्रेट ट्रेनों की अन्‍य क्षेत्रीय रेलों से परस्‍पर अदला-बदली की गई, जिनमें से 31,943 ट्रेनों को सौंपा गया और 31,978 ट्रेनों को विभिन्‍न स्‍थानों पर ग्रहण किया गया।
लॉकडाउन के दौरान यात्री राजस्‍व की हानि : कोरोना वायरस के कारण पश्चिम रेलवे को लगभग 3917 करोड़ रु. कुल राजस्‍व की हानि हुई है, जिसमें 644 करोड़ रुपये का नुकसान उपनगरीय खंड पर एवं 3273 करोड़ रुपये का नुकसान गैर-उपनगरीय खंड पर हुआ है। इसके बावजूद, 1 मार्च, 2020 से 11 फरवरी, 2021 तक पश्चिम रेलवे पर टिकटों के निरस्‍तीकरण के परिणामस्‍वरूप 618 करोड़ रु. से अधिक की धनवापसी सुनिश्चित की गई है। अभी तक पूरे पश्चिम रेलवे पर लगभग 97.61 लाख यात्रियों ने अपने टिकट रद्द करवाकर तद्नुसार धनवापसी की राशि प्राप्‍त की है।  ,

admin