7 स्टार के मापदंडों के 1800 अंक, सर्वे के लिए इंदौर तैयार

सरकार को वाटर प्लस और 7 स्टार रेटिंग के लिए दावा पेश…
अब इंदौर होगा 7 स्टार
मार्च के पहले सप्ताह में सर्वे टीम आने की संभावना, वाटर प्लस और
शैलेन्द्र वर्मा, इंदौर। नगर निगम ने 6 माह की तैयारी के बाद वाटर प्लस और 7 स्टार रेंटिग सर्टिफिकेशन के लिए दावा पेश कर दिया है। निगम आयुक्त ने स्वघोषणा करते हुए राज्य शासन को पत्र भेजा है। अब शासन द्वारा केन्द्रीय शहरी विकास एवं आवास मंत्रालय को सूचना दी जाएगी। सूचना के 15 दिनों के बाद केंद्रीय दल सर्वे के लिए इंदौर आ सकता है।

निगम आयुक्त प्रतिभा पाल ने बताया कि वाटर प्लस सर्वे और 7 स्टार रेटिंग के सभी मापदंड इंदौर ने पूरे कर लिए हैं। अब वही काम किए जा रहे हैं जिनका असर मापदंड तय करने के दौरान नजर आया। इसमें नाला टेपिंग के लिए खोदी गई सड़क के री-स्टोरेशन जैसे काम शामिल हैं।

दावा : इन मापदंडों पर हम खरे उतरेंगे
1. आयुक्त के अनुसार वाटर प्लस सर्वे के लिए मुख्य मापदंड शहर के नदी-नालों और तालाबों के पानी को सीवरेज मुक्त करना है। इसके लिए इंदौर पिछले कई माह से 24 घंटे काम कर रहा था। तीन माह में निगम 13 नालों में 350 किलो मीटर नई पाइप लाइन डाली और नदी नालों में मिलने वाले 5 हजार 600 आउट फाल टेप किए है। मापदंड इन लाइनों के माध्यम से सीवरेज वाटर को ट्रीटेमेंट प्लांट तक ले जाकर पानी को ट्रीट करना है। ट्रिटेड पानी बेचने के लिए हाईड्रेंट बनाए गए है जहां से पानी लिया जाएगा।

2. ट्रीट पानी के रियूज के लिए 170 किलो मीटर पाइप लाइन डाली गई है और मेघदूत गार्डन में ढाई एमएलडी क्षमता वाली पानी की टंकी का निर्माण किया गया। नदियों में साफ जल प्रवाहित हो इसके लिए सभी 6 एसटीपी प्लांट ने काम करना शुरू कर दिया है। कान्ह और सरस्वती नदी में सीवरेज वाटर के सभी आउट फाल टेप किए है। इसके अलावा शहर की सड़कों ओर फुटपाथ के सुधारा गया।

3. सीवरेज पानी ट्रीटकर रियूज करना और जरूरतमंदों को मुहैया करवाना। बगीचों और खेतों में ट्रीट पानी के लिए पाइप लाइन भी डाली गई है। इसी पानी से 11 फाउंटेन शुरू कर दिए।

1100 अंक वाले ये काम भी किए गए
सेवन स्टार रेटिंग सर्टिफिकेशन का सबसे अहम मापदंड गार्बेज फ्री सिटी होना है। इसके लिए इंदौर ने पहले ही तैयारी कर रखी है क्योंकि इंदौर में कचरा डम्प साइट नहीं है और जो भी वेस्ट निकल रहा है उसको ट्रेचिंग ग्राउंड सेग्रीकेट किया जा रहा है। सीएनडी वेस्ट रियूज के प्लाटं का संचालन हो रहा है। सिटी और स्लम ब्यूटीफिकेशन के काम हुए हैं। निगम ने 7 स्टार रेटिंग के मापदंड अनुसार इस वर्ष 90 फीसदी कचरा संग्रहण शुल्क वसूला है। इसमें 75 प्रतिशत घरेलू और 90 प्रतिशत बल्व कलेक्शन शामिल है। भाभा परमाणु संस्थान द्वारा स्लज के खाद बनाने का सयंत्र बना रहा है, निगम ने इसके एमओयू साइन किया है। सीएनजी प्लांट का भी निर्माण जारी है।

admin