इटली में हालात मुश्किल होने के बावजूद 95 साल की महिला ने जीती जंग

विभव देव शुक्ला

हर बड़ी लड़ाई न तो अकेले लड़ी जा सकती है और न ही अकेले जीती जा सकती है। सभी को एक साथ लेकर चलना पड़ता है, कमज़ोर से कमज़ोर कड़ी हो या मज़बूत से मज़बूत जब तक सभी एक पन्ने पर नज़र नहीं आते तब तक बड़ी लड़ाई में ठोस नतीजे नहीं मिलते हैं। जहाँ एक तरफ दुनिया में फैली महामारी से सबसे ज़्यादा खतरा उम्र दराज़ लोगों को था वहीं इटली की एक 95 वर्षीय महिला ने कोरोना वायरस को हरा दिया है।

95 साल की महिला ने जीती लड़ाई
इटली दुनिया का ऐसा देश है जहाँ कोरोना वायरस के चलते सबसे ज़्यादा नुकसान हुआ है। अभी तक लोग मुश्किल हालातों से जूझ रहे हैं लेकिन ऐसे में इस तरह की ख़बरें काफी सुकून देती हैं। कोरोना वायरस से सबसे ज़्यादा ख़तरा बुजुर्गों को और बच्चों को बताया जा रहा है। इसके बावजूद इटली के मोडेना राज्य में 95 साल की महिला ने यह कठिन लड़ाई जीत ली है।
जानकारों का यहाँ तक कहना था कि कोरोना वायरस का असर इटली पर सबसे ज़्यादा होने की एक बड़ी है वहाँ की औसत आयु। क्योंकि इटली की औसत आयु काफी ज़्यादा है लिहाज़ा वहाँ कोरोना वायरस का ख़तरा काफी ज़्यादा बताया गया था। भले इटली में हालात मुश्किल बने हुए हों पर इस तरह के मामले काफी राहत देने वाले हैं।

एक और युवक की हालत में सुधार
इसके अलावा मोडेना के ही कार्पी में एक 27 साल के युवक की हालत में पूरी तरह सुधार हो गया है। इन दोनों की मरीजों के बारे में इटली के तमाम समाचार समूहों में प्रकाशित हुआ लेकिन फिलहाल उनकी निजी जानकारी कहीं प्रकाशित नहीं हुई है। 95 साल की महिला की तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब पसंद और साझा की जा रही है। तस्वीर में महिला के साथ तमाम चिकित्सक मौजूद हैं, सभी खुश नज़र आ रहे हैं। सबसे बड़ी बात खुद महिला भी मुस्कराते हुए नज़र आ रही है।

एक दिन में सबसे ज़्यादा मौतें
कोरोना वायरस की वजह से इटली में अब तक 4825 मौतें हो चुकी हैं जो कि दुनिया भर में हुई मौतों का लगभग 38 फीसदी है। महज़ शनिवार के दिन इटली में कोरोना वायरस की वजह से 793 मौतें हुई थीं जो कि एक दिन में हुई सबसे ज़्यादा मौतें हैं। इटली में कोविड 19 वायरस से प्रभावित लोगों संख्या फिलहाल 53578 पहुँच चुकी है जो कि पूरी दुनिया में महामारी से प्रभावित लोगों का एक रिकॉर्ड है।

admin