मेरठ के एक व्यापारी ने कहा, “खरीदने के बाद पता चला कि यह जहाज कभी दाऊद का हुआ करता था”

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

इस समय जब कोविड-19 के दौरान हुए लॉकडाउन में व्यापारियों की हालत सख्ता है। कई व्यापार बंद हो रहे हैं और लोग भुखमरी के कगार पर हैं।

ऐसे में मेरठ के एक व्यापारी ने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का हवाई जहाज खरीद लिया है। यह जहाज 72 सीटर है। हालांकि अब जहाज उड़ान भरने में सक्षम नहीं है। इसलिए इसे सड़क के रास्ते ट्रक में लादकर मेरठ लाया गया है।

खरीदने के बाद पता चला दाऊद का जहाज है

दरअसल, सरकार की नीलामी में कंकरखेड़ा की पुरानी गोविंदपुरी निवासी अमित ढल्ला व दीपक ढल्ला ने यह विमान खरीदा। खरीदने के बाद पता चला कि कभी यह विमान दाऊद का हुआ करता था।

कंकरखेड़ा की पुरानी गोविंदपुरी निवासी अमित ढल्ला ने बताया , “उन्हें इसको खरीदने के बाद पता चला कि कभी यह जहाज दाऊद का हुआ करता था। कुछ दिन पूर्व सरकार ने हवाई जहाज की नीलामी की, जिसमें देशभर से लोगों ने बोली लगाई। बोली हमारे नाम की निकली।”

देशभर से लोगों ने बोली लगाई

दाऊद इब्राहिम और उनसे जुड़े लोगों ने एक समय एयरोनॉटिक्स इंजिनीयरिंग का इंस्टीट्यूट चलाने के लिए यह डमी जहाज खरीदा था। लेकिन इंस्टीट्यूट शुरू होने से पहले ही दाऊद की संपत्ति कुर्क हो गई।

जिसमें यह जहाज भी कुर्क किया गया। तभी से यह विमान सरकार के पास था। कुछ दिन पूर्व सरकार ने हवाई जहाज की नीलामी की। जिसमें देशभर से लोगों ने बोली लगाई। लेकिन उन्होंने सबसे अधिक बोली लगाकर इस प्लेन को खरीद लिया।

इंजीनियरिंग की पढ़ाई में यह जहाज काम आएगा

अमित ढल्ला की नंदपुरी स्थित प्रभु हेली सर्विस के नाम से फर्म है। अमित की कंपनी टायर कंपनी में इस्तेमाल की जानी वाली ट्रॉली बनाती है। इनकी हापुड़ रोड स्थित अतराड़ा गांव के पास अहारदा एजुकेशन नाम से कॉलेज भी है।

अमित ने एक मीडिया कंपनी को इंटरव्यू देते हुए कहा, “अब यह हवाई जहाज उनके कालेज के बाहर खड़ा होगा तो यहां के छात्रों की इंजीनियरिंग की पढ़ाई में यह जहाज काम आएगा। छात्रों को हवाई जहाज तकनी की सिस्टम, क्षमता व उड़ान के बारे में जानकारी दी जाएगी।”

अमित मर्चेंट नेवी में नौकरी करते थे

विमान कितने में खरीदा गया, यह अमित ने बताने से इंकार कर दिया। अमित ढल्ला मर्चेंट नेवी में नौकरी करते थे। पिता का कारोबार संभालने के लिए ही उन्होंने नौकरी से इस्तीफा दिया और यहां आकर कारोबार में जुट गए।

अमित का ग्रेटर नोएडा में अपना निजी हेलीपैड भी है। जहां पर तीन और पांच सीट वाले दो हेलीकॉप्टर उनके पास पहले से हैं।

admin