मोती तबेला और पवन नगर में कार्रवाई, राशन माफिया दवे बंधुओं के पांच मकान जमींदोज किए

इंदौर (नगर संवाददाता) । 51 हजार से अधिक गरीबों के हक का अनाज हजम करने वाले राशन माफिया भरत दवे और श्याम दवे के पांच मकानों में किए गए अवैध निर्माण नगर निगम ने बुधवार को जमींदोज कर दिए।  कार्रवाई प्रशासनिक संकूल के पीछे मोती तबेला और मूसाखेड़ी क्षेत्र स्थित मकानों पर हुई। एक दिन पहले कलेक्टर मनीष सिंह के नेतृत्व में जिला प्रशासन और नगर निगम की टीम ने दवे बंधुओं के ठिकानों पर बुलडोजर चलाने की योजना बना ली थी। प्रशासन और निगम का दस्ता भारी पुलिस बल के साथ सुबह 7 बजे मौके पर पहुंच गया था। लोगों की नींद खुलती उससे पहले ही कार्रवाई शुरू कर दी।
नोटिस भेजकर दी थी चेतावनीः कार्रवाई से पहले नगर निगम बिल्डिंग परमिशन विभाग ने संबंधित जगह नोटिस भेजकर स्वेच्छा से अतिक्रमण और अवैध निर्माण हटाने की चेतावनी दे दी थी,लेकिन तय समय सीमा में अतिक्रमण नहीं हटने के कारण प्रशासन को कार्रवाई करना पड़ी।

यहां हुई कार्रवाई
रिमूवल दस्ते की उपायुक्त लता अग्रवाल और जोन क्रमांक 18 के भवन अधिकारी देवकीनंदन वर्मा ने बताया कि  सर्वे नं. 255.59 पवन नगर में 15 बाय 10 पर बने जी-3 मकान पर कार्रवाई की गई। कार्रवाई से पहले किराएदारों को नोटिस देकर मकान खाली करा लिया गया था।
जोन क्रमांक 12 मोती तबेला क्षेत्र में दवे बंधुओं के 4 मकानों पर भी कार्रवाई की गई। यहां अपर कलेक्टर अभय बेड़ेकर ने मोर्चा संभाला।

अन्य की संपत्ति भी तलाशी जा रही
प्रशासनिक अधिकारियों की मानें तो राशन घोटाले में कुल 31 लोगों के खिलाफ एफआईआर है। सिर्फ दवे बंधुओं की संपत्तियों तक ही सरकारी सख्ती सीमित नहीं है। अन्य 29 लोगों की संपत्ति भी तलाशी जा रही है। उन संपत्तियों पर भी कार्रवाई होगी। इनमें पूर्व खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक आरसी मीणा का नाम भी शामिल है। संघ से जुड़े प्रमोद धाईगुड़े की संपत्ति भी तलाशी जा रही है।

admin