दिल्ली चुनाव में हार के बाद कांग्रेस के दिग्गज नेता ने कहा ‘पार्टी के पास नहीं है कोई चेहरा’

विभव देव शुक्ला

दिल्ली विधानसभा चुनावों के नतीजे राजनीतिक दलों के लिए हैरान कर देने वाले थे। यह बात और है कि हर राजनीतिक दल को हुई हैरानी में काफी अंतर है, चाहे आम आदमी पार्टी हो या भारतीय जनता पार्टी। आम आदमी पार्टी को सत्ता मिली और भाजपा को मिली सीटों में मामूली बढ़ोतरी हुई। लेकिन भाजपा और आप के अलावा कांग्रेस पूरे नतीजों में कहीं जगह नहीं बना पाई। दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को एक भी सीट हासिल नहीं हुई और यह बेशक कांग्रेस के लिए हैरान कर देने वाला था।

नहीं है फिलहाल कोई नेता
लिहाज़ा नतीजे के बाद कांग्रेस के नेताओं ने अपनी तरफ से कई तरह की प्रतिक्रियाएँ भी दीं। कहना गलत नहीं होगा नतीजे ऐसे थे ही कि दिग्गज से दिग्गज नेताओं को कारण भी तलाश कर बताने पड़ रहे हैं। इसी कड़ी में सबसे ताज़ा बयान आया है कांग्रेस के दिग्गज नेता कपिल सिब्बल का। समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए उन्होंने साफ कहा कि ‘कांग्रेस के पास कोई ऐसा नेता नहीं है जिसे आगे रखा जा सके।’
कपिल सिब्बल ने कहा हमारे पास कोई ऐसा नेता नहीं है जिसे आगे करके पार्टी को आगे बढ़ाया जा सके। कांग्रेस के साथ फिलहाल सबसे बड़ी समस्या यही है, हम इस समस्या को समझेंगे और जल्द ही इसका विकल्प तलाशने की कोशिश करेंगे। जिसके बाद उन्होंने पूर्व केन्द्रीय मंत्री शरद पवार के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। शरद पवार ने कहा था ‘दिल्ली ने भाजपा के साथ शानदार काम किया है, भाजपा की हार रुकनी नहीं चाहिए।’

छत्तीसगढ़ और झारखंड जैसा हाल
इस पर कपिल सिब्बल ने कहा भाजपा जिस तरह से समाज को बांटने वाली ध्रुवीकरण की राजनीति कर रही है उसे देश वालों ने भी नकार दिया और दिल्ली वालों ने भी। इस बात की साफ तस्वीर झारखंड और छत्तीसगढ़ में देखी जा सकती है। गृह मंत्री अमित शाह को यह समझने की ज़रूरत है कि
चुनावी फायदे के लिए लोगों को बांटने का कोई मतलब नहीं है। इस तरह का माहौल बनने के बाद निवेश करने वालों का भरोसा और कमज़ोर ही पड़ने वाला है। अंत में उन्होंने कहा कि भाजपा का जो हाल दिल्ली में हुआ है वही हाल बिहार के चुनावों में भी होगा।

क्या लिखा था अलका लांबा ने
चुनाव के नतीजे आने के कुछ समय बाद ही इस बार कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने वाली अलका लांबा ने भी बयान दिया था। दिल्ली के चाँदनी चौक विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी अलका लांबा ने ट्वीटर पर एक ट्वीट किया। ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि हिन्दुओं और मुसलमानों के मतों का पूरी तरह ध्रुवीकरण हुआ है। अपने आधिकारिक ट्वीटर एकाउंट पर ट्वीट करते हुए कांग्रेस प्रत्याशी ने चुनाव के नतीजों पर अपनी प्रतिक्रिया दी थी।
अलका लांबा ने लिखा था,
मैं परिणाम स्वीकार करती हूँ,
पर हार नहीं
हिन्दू मुस्लिम वोटों का पूरी तरह ध्रुवीकरण किया गया।
कांग्रेस पार्टी को नए चेहरों के साथ एक नई लड़ाई और दिल्ली की जनता के लिए एक लंबे समय के लिए तैयार होना पड़ेगा। आज लड़ेंगे तो कल जीतेंगे भी।

admin