‘आरोग्य सेतु’ बताएगा आप संक्रमित के संपर्क में तो नहीं

‍विनोद शर्मा | इंदौर

भारत सरकार के एप को एक दिन में 30 लाख लोगों ने किया डाउनलोड

कोरोना से जंग के लिए भारत सरकार ने ‘आरोग्य सेतु’ मोबाइल एप लांच किया है, जो कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आते ही आपको सूचित करेगा। स्वास्थ्य मंत्रालय के जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल के अनुसार इसमें सबकी सेफ्टी से आपकी और आपकी सेफ्टी से सबकी सेफ्टी होगी।

एप केवल ताजा मामलों का पता लगाएगा और उन्हीं लोगों को सतर्क करेगा, जो संक्रमित व्यक्ति के आसपास रहे हैं। एप आवाज के जरिये इस्तेमाल में आने वाली तकनीक से संकमितों का पता लगाने में मदद करेगा। इसमें अत्याधुनिक ब्लूटूथ टेक्नोलॉजी, एल्गोरिदम और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग शामिल है। इस एप को 11 भाषाओं में एंड्रॉयड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर लांच किया गया है। एप में उपयोगकर्ताओं की जानकारी किसी से साझा नहीं की जाएगी और प्राइवेसी का पूरा ख्याल रखा जाएगा।

एप के काम करने का तरीका… इलाज के दौरान संक्रमित पाए गए मरीज का मोबाइल नंबर स्वास्थ्य मंत्रालय में रजिस्टर्ड होगा। एप पर भी यह सूचना अपडेट होगी। इसमें दो ऑप्शन हैं। सेल्फ असेसमेंट टेस्ट, जिसमें आपसे कई तरह के सवाल करने के बाद एप तुरंत जवाब देता है। जवाब के आधार पर बताएगा कि आप में कोरोना संक्रमण का खतरा है या नहीं। सभी राज्यों की हेल्पलाइन दी गई है। ब्लूटूथ और लोकेशन जनरेटेड सोशल ग्राफ की मदद से आरोग्य सेतु कोरोना पॉजिटिव लोगों के साथ आपके संपर्क को ट्रेक करता है। किसी पॉजिटिव व्यक्ति से आप 14-15 दिन में कांटेक्ट में आए हैं तो यह आपको अपडेट करेगा। अलर्ट में आपको सेल्फ आइसोलेट होने की सलाह दी जाएगी। आप में कोविड-19 के लक्षण विकसित होने की स्थिति में आपकी मदद करेगा।

यह तस्वीर रानीपुरा की है। जो अति संक्रमित घोषित है। इसका एक हिस्सा नदी से जुड़ा है जिसके उस पर कबूतर खाना है। रानीपुरा संक्रमित इलाके से लोगों ने लॉक डाउन के बाद कबूतरखाना में जाने का नया रास्ता बना लिया है। अच्छी बात है कि कबूतरखाना में अभी कोई मरीज नहीं है लेकिन ऐसे लोगों को रोका न गया तो मरीज और बढ़ सकते हैं।

admin