फोटो देखकर बैंक अब कैश करेगी आपका चेक

मुंबई

धोखाधड़ी रोकने के लिए बैंकिंग सिस्टम चेक ट्रांजेक्शन में पॉजिटिव पे व्यवस्था

चेक से जुड़ी धोखाधड़ी करना अब आसान नहीं रह जाएगा। रिजर्व बैंक इसे रोकने के लिए पक्का इंतजाम कर रहा है। आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने गुरुवार को कहा कि चेक से जुड़ी धोखाधड़ी रोकने के लिए बैंकिंग सिस्टम चेक ट्रांजेक्शन में पॉजिटिव पे व्यवस्था की तरफ बढ़ेगा। पॉजिटिव पे व्यवस्था के तहत चेक जारी करने वाला कस्टमर इसे लाभार्थी को देने से पहले चेक की फोटो खींचता है और फिर इस फोटो को बैंक के मोबाइल एप्लिकेशन पर अपलोड कर देता है।

दास ने द्विमासिक नीतिगत समीक्षा के बाद कहा, ‘चेक पेमेंट्स की सेफ्टी बढ़ाने के लिए 50 हजार रुपए और उससे अधिक राशि के सभी चेक के लिए पॉजिटिव पे की व्यवस्था शुरू करने का फैसला किया गया है।’ उन्होंने कहा कि वॉल्यूम के हिसाब से करीब 20 फीसदी लेनदेन और वैल्यू के हिसाब से 80 फीसदी लेनदेन 50 हजार रुपए की सीमा के दायरे में होंगे। इसके लिए जल्दी ही गाइडलाइंस जारी की जाएगी।

ऐसे रुकेगी धोखाधड़ी

निजी क्षेत्र के दूसरे सबसे बड़े बैंक आईसीआईसीआई बैंक में 2016 से ही सभी तरह के चेक के लिए इस तरह की व्यवस्था है। इस व्यवस्था से बैंक को चेक डिपॉजिट होने से पहले ही पता चल जाता है कि लाभार्थी के चेक दिया जा रहा है। इस तरह जब चेक क्लीयरेंस के लिए आता है तो बैंक का अधिकारी फंड ट्रांसफर करने से पहले उसकी डिटेल को क्रॉस चेक कर सकता है। इसकी वजह यह है कि चेक काटने वाला कस्टमर पहले ही इसकी डिटेल बैंक के ऐप में साझा कर चुका होता है। इस तकनीक की मदद से चेक से होने वाली धोखाधड़ी को रोका जा सकता है।

admin