पाकिस्तान में कोरोना के अस्पतालों में कम पड़ने लगे बेड, समस्या बढ़ी

कराची

पीएमए से जुड़े कराची के प्रमुख डॉक्टरों ने सरकार से रोकथाम के लिए लॉकडाउन को सख्त करने की मांग की

बदहाल चिकित्सा व्यवस्था वाले पाकिस्तान में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ने से अस्पतालों में बेड कम पड़ने लगे हैं। इस समस्या को दूर करने के लिए कई डॉक्टरों ने इमरान सरकार से मदद की गुहार लगाई है। पाकिस्तान में कोरोना की चपेट में आए लोगों का आंकड़ा दस हजार के पार पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को बताया कि मुल्क में बीते 24 घंटों में 742 नए मामले सामने आने से पीडि़तों की संख्या बढ़कर दस हजार 513 हो गई है। अब तक 224 लोगों की मौत हो चुकी है।

पाकिस्तान मेडिकल एसोसिएशन (पीएमए) से जुड़े कराची के प्रमुख डॉक्टरों ने बुधवार को सरकार से महामारी की रोकथाम के लिए लॉकडाउन के उपायों को और सख्त करने की मांग की। उन्होंने धार्मिक नेताओं से भी इन उपायों का पालन करने का आग्रह किया। डॉव यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज के डॉक्टर साद नियाज ने कोरोना वायरस से अग्रिम मोर्चे पर मुकाबला कर रहे स्वास्थ्यकर्मियों की दशा को बयां किया। उन्होंने कहा, ‘आर्थिक और सामाजिक प्रभावों के चलते चिकित्सा के मोर्चे पर समस्या पैदा हुई है। 16 से 21 अप्रैल के बीच करीब चार हजार मरीज बढ़ गए।’

पाकिस्तान में 10,513 मरीज संक्रमित, मृतकों की संख्या 224 हुई

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के 742 नए मामले सामने आने के बाद देश में कोविड-19 के मामले बढ़कर 10,513 हो गए। संक्रमित 15 और लोगों की मौत के बाद वायरस के कारण जान गंवाने वाले लोगों की संख्या 224 हो गई है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि पंजाब में 4,590 मरीज, सिंध में 3,373, ख़ैबर पख़्तूनख़्वा में 1,453, बलूचिस्तान में 552, गिलगित-बाल्टिस्तान में 290, इस्लामाबाद में 204 और पीओके (पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर) में 51 मामले हैं।

admin