बीकानेर का बारह गुवाड़ मोहल्ला है इंदौर के सराफे जैसा

श्याम शर्मा

बाबा बटुकनाथ की थड़ी के सामने ब्रेड पकौड़ा और कचौरी खाने वालों की लाइन लगती है। जिनका नंबर दाल की पकौड़ी में नहीं लगता वह ब्रेड पकौड़ों का स्वाद लेकर ही संतुष्ट होता है। इसके पास पपड़ी चाट की थड़ी पर आने वाले भी कम नहीं है। मजे की बात तो यह है कि यहां लोग खाना खाने के बाद इनका स्वाद लेने आते हैं।

बीकानेर में दुकानें ही रात को 7 बजे बाद खुलती हैं और आधी रात तक यहां मेला लगा रहता है। रात को कचौरी, पकोड़ी और केसरयुक्त चाय का बाजार गुलजार होता है तो दूर–दूर से लोग यहां रात को दस बजे बाद आकर अपने–अपने स्वाद का मजा लेते हैं। बीकानेर के सघन पुष्करणा इलाके का बारह गुवाड़ मोहल्ला है, जहां पिछले कुछ महीनों से फेमस हुई ‘नाइट चाय पट्टी‘ लोगों को यहां तक खींचकर ले आती है। यहां हींग की खुशबू लिए पकौड़ी का स्वाद चखने के लिए लाइन में लगना पड़ता है। बाबा बटुकनाथ की दुकान पर रात 12 बजे भी ऑर्डर दो तो पकौड़ी हाजिर कर दी जाती है। कचौरी और सब्जी का स्वाद लेने के लिए भी इंतजार करना पड़ता है।

बाबा बटुकनाथ की थड़ी के सामने ब्रेड पकौड़ा और कचौरी खाने वालों की लाइन लगती है। जिनका नंबर दाल की पकौड़ी में नहीं लगता वह ब्रेड पकौड़ों का स्वाद लेकर ही संतुष्ट होता है। इसके पास पपड़ी चाट की थड़ी पर आने वाले भी कम नहीं है। मजे की बात तो यह है कि यहां लोग खाना खाने के बाद इनका स्वाद लेने आते हैं।

शहर की सारी दुकानों पर 15 से 20 रुपये में पान मिलता है तो यहां आपको पांच रुपये में पान मिल जाएगा। वह भी कोई सा ले लीजिए , तंबाकू वाला या मसाले वाला, पांच रुपये ही देने पड़ेंगे। इन दुकानों पर खाना खाकर ‘उगाव’ करने आने वाले भी एक तरह से फिक्स हैं। यहां नियमित बैठकबाजी करने वाले भंवर पुरोहित ने बताया कि कोई शख्स यहां से अपने घर में रात को कितने बजे जाएगा, यह पता नहीं लेकिन बारह गुवाड़ में उसके आने का समय लगभग सबको पता रहता है।

दिन में शहर में चाय के कई ठीये चलते हों लेकिन रात को केसर की चाय पीने के लिए बारह गुवाड़ ही आना पड़ेगा। कालू की यह दुकान भी शाम को ही खुलती है और आधी रात तक ग्राहकों का तांता लगा रहता है। यहां केसरयुक्त चाय मात्र दस रुपये में मिलती है तो क्यों नहीं चाय के रसिकों का मन ललचायेगा।

दिन की चाय पट्टी बड़े बाजार में है जो राष्ट्रीय पत्र–पत्रिकाओं तक में चर्चित रही है। यहां की राजनीतिक चर्चाओं से निकले निष्कर्ष जानने के लिए लोग उत्सुकता से इंतजार करते थे। जगह की ख्याति इतनी कि मूर्धन्य साहित्यकार अज्ञेयजी भी आए हुए हैं। यहां कभी साहित्यकारों को मजमा लगता था। अब नई नाइट चाय पट्टी फेमस हो रही है।

admin