द्रोणाचार्य अवार्ड हासिल करने के 15 दिन पहले दुनिया को अलविदा कहने वाले हवा सिंह पर बन रही बायोपिक

विभव देव शुक्ला

भारतीय सिनेमा बायोपिक फिल्मों के दौर से गुज़र रहा है। खिलाड़ियों से लेकर नेताओं की और नेताओं से लेकर देश के लिए कुछ कर गुज़रने वालों की। जिसमें सबसे ज़्यादा चर्चा है खिलाड़ियों पर बनने वाली बायोपिक फिल्मों की। अब तक मैरी कॉम, महेंद्र सिंह धोनी, मिलखा सिंह और सचिन तेंदुलकर जैसे तमाम मशहूर खिलाड़ियों पर फिल्म बन चुकी है। इसी कड़ी में अब एक और खिलाड़ी पर बायोपिक आने वाली है, ‘हवा सिंह’।

सूरज पांचोली मुख्य भूमिका में
भारतीय के ऐसे मुक्केबाज़ जिन्हें अर्जुन पुरस्कार से लेकर द्रोणाचार्य पुरस्कार तक मिल चुका है। मंगलवार के दिन बॉलीवुड के सुपरस्टार सलमान खान ने अपने ट्वीटर हैंडल से हवा सिंह पर आने वाली बायोपिक का पहला लुक जारी किया। सूरज पांचोली इस फिल्म में मुख्य किरदार की भूमिका निभाते हुए नज़र आने वाले हैं। फिल्म का पहला लुक साझा करते हुए सलमान खान ने लिखा
‘हवा सिंह की बायोपिक में मुख्य भूमिका निभाते हुए नज़र आने वाले हैं सूरज पांचोली। हवा सिंह को भारत में मुक्केबाज़ी की नींव रखने वाला किरदार माना जाता है। फिल्म के निर्देशक प्रकाश नाम्बियार होंगे और वहीं सैम एस फर्नांडीस व कमलेश सिंह कुशवाहा फिल्म के निर्माता हैं। जल्द ही फिल्म की शूटिंग शुरू होने वाली है।

जीते अर्जुन और द्रोणाचार्य पुरस्कार

भारतीय मुक्केबाज़ी का एक ऐसा नाम जिसने मुक्केबाज़ी को देश में एक मज़बूत जगह दी। इसके अलावा हवा सिंह को द्रोणाचार्य पुरस्कार और अर्जुन पुरस्कार तक मिल चुका है। हरियाणा में जन्मे हवा सिंह साल 1960 में डिफेंडिग चैंपियन मोहब्बत सिंह को हराकर वेस्टर्न कमांड के चैंपियन साबित हुए थे।
हवा सिंह ने अपनी परफॉर्मेंस से सभी का ध्यान आकर्षित किया था और उन्होंने साल 1966 में एशियन गेम्स में हिस्सा लिया था। हवा सिंह ने साल 1966 के एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक जीता था। इसके अलावा वह साल 1970 में बैंकाक में हुए एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने में कामयाब हुए थे। साल 1966 में उन्हें अर्जुन अवॉर्ड से भी नवाजा गया था।
साल 1961 से 1972 तक उन्होंने लगातार नेशनल चैंपियनशिप जीती थी। साल 1999 में हवा सिंह के प्रयासों के चलते उन्हें द्रोणाचार्य अवॉर्ड देने की घोषणा की गई थी। हालांकि 14 अगस्त 2000 को उनका निधन हो गया था और द्रोणाचार्य अवॉर्ड हासिल करने के महज 15 दिनों पहले वे इस दुनिया को अलविदा कह कर चले गए थे।

admin