आ गई सबसे सस्ती दवा, कीमत रु 33

नई दिल्ली

भारतीय कंपनी एमएसएन ग्रुप ने लॉन्च की ‘फेविलो’, हल्के और मध्यम लक्षण वाले मरीजों के लिए कारगर टैबलेट

हैदराबाद की जेनरिक फार्मा कंपनी एमएसएन ग्रुप ने कोरोना की सबसे सस्ती दावा ‘फेविलो’ लॉन्च की है। इसमें फेविपिराविर ड्रग का डोज है। 200 एमजी फेविपिराविर की एक टैबलेट 33 रुपये की होगी। इससे कोरोना के हल्के और मध्यम लक्षण वाले मरीजों का इलाज किया जा सकेगा। एमएसएन ग्रुप के मुताबिक, जल्द ही फेविपिराविर की 400 एमजी टैबलेट भी लॉन्च की जाएगी।

ग्रुप के सीएमडी डॉ. एमएसएन रेड्‌डी का दावा है कि फेविलो कोविड-19 की सबसे प्रभावी और किफायती दवा है। उन्होंने कहा कि हमारी कंपनी दवाओं की क्वालिटी का ध्यान रखने के साथ उसे लोगों को उपलब्ध कराने में विश्वास रखती है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया फेविपिराविर को भी मंजूरी दे चुका है। कंपनी ने ‘फेविलो’ का वही डोज तय किया है जो ‘फेबिफ्लू’ का है। मरीज को 14 दिन में 122 टैबलेट लेनी है। पहले दिन 18 टैबलेट, इसके बाद प्रतिदिन आठ टैबलेट खानी होती है। फिजिशियन डॉक्टर राजेश कुमार ने बताया कि हल्के लक्षण में यह दवा काफी कारगर है।

भारत बायोटेक-आईसीएमआर की तरफ से बनाई जा रही ‘कोवैक्सीन’ के पहले फेज का क्लीनिकल ट्रायल सफल रहा है। वैक्सीन का छह शहरों में ह्यूमन ट्रायल चल रहा है।

 

admin