अब इन देशों में लॉकडाउन को खुलवाने के लिए सड़कों पर प्रदर्शन हो रहे हैं

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

कई दिनों के लॉकडाउन से दुनियाभर के देशों में लोग परेशान हैं। वे आम जनजीवन की तरफ लौटना चाहते हैं। लॉकडाउन की मांग को हटाने को लेकर कुछ देशों में प्रदर्शन भी हुए और ढील देनी पड़ी। अमेरिका और कुछ अन्य देशों में संक्रमण के मामले बढ़ने के बावजूद सरकार को कारखानों, दुकानों, यात्रा और जन गतिविधियों को फिर से खोलने के लिए लोगों के द्वारा दबाव दिया जा रहा है। 

कोरोन वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगे लॉकडाउन  के खिलाफ अमेरिका के तीन राज्यों में जनता सड़कों पर उतर आई और विरोध-प्रदर्शन किया। उनलोगों ने लॉकडाउन को खत्म करने की मांग की है। सबसे बड़ा प्रदर्शन मिशिगन में नजर आया, जहां लॉकडाउन के विरोध में सड़क पर करीब 3000 लोगों ने जमकर हंगामा किया।

अधिकारियों ने आशंका जताई है कि इससे वायरस का खतरा बढ़ सकता है। अमेरिका के जॉन्स हॉप्किन्स विश्वविद्यालय के अनुसार, दिसंबर में शुरू हुए इस संक्रामक रोग ने दुनियाभर में 23 लाख से अधिक लोगों को अपने चपेट में ले लिया है और इसमें से 155,000 लोगों की मौत हो गई।

ब्राजील में राज्य के गवर्नरों द्वारा लगाए बंद की आलोचना करने वाले राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो ने शनिवार को कहा कि वह प्राग तथा उरुग्वे के साथ अपनी सीमाओं को फिर से खोलने की सिफारिश करेंगे। ब्राजील में भी लोग रिडो डी जनेरिया शहर में प्रदर्शन करते हुए दिखे। हालांकि, यूरोप में कोविड-19 पर लगाम लगाने के लिए लगाई पाबंदियों के असर करने के सबूत मिले हैं। फ्रांस और स्पेन ने कुछ अस्थायी अस्पतालों को हटाना शुरू कर दिया है। जर्मनी में पिछले हफ्ते से लेकर अभी तक संक्रमण के मामलों में कमी आई है।

 फ्लोरिडा और दक्षिण कैरोलिना समुद्र तटों को फिर से खोल रहे हैं। हालांकि, न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्रयू क्यूमो ने कारोबार को फिर से खोलने के दबाव के आगे झुकने से इनकार कर दिया है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार 18 अप्रैल को कहा कि देश में आठ करोड़ अमेरिकी लोगों को कोरोना वायरस राहत राशि मिल चुकी है। और प्रशासन किसानों को 19 अरब डालर की सहायता प्रदान करेगा।

admin