मैदान में भी ‘दूरी’ जरूरी, विकेट लेकर ताली भी नहीं मारना !

नई दिल्ली

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने कोरोना वायरस के बाद क्रिकेट को दोबारा शुरू करने के लिए पूरी गाइडलाइन जारी कर दी है। इस गाइडलाइन में घरेलू क्रिकेटरों से लेकर इंटरनेशनल क्रिकेट खिलाड़ियों की ट्रेनिंग, खेल, ट्रैवल और वायरस से सुरक्षा संबंधी दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। आईसीसी ने अपनी इस गाइडलाइन को 4 चरणों में बांटा है। पहले चरण में खिलाड़ियों को अकेले ट्रेनिंग शुरू करनी है। दूसरे चरण में 3 खिलाड़ियों का ग्रुप ट्रेनिंग शुरू करेगा। तीसरे चरण में छोटा ग्रुप या टीम अपने कोच के साथ ट्रेनिंग कर सकेगी और चौथे चरण में टीमें अपने पूरे स्क्वाड के साथ मैच खेल सकेंगी, हालांकि खेल के दौरान एक-दूसरे के संपर्क से बचना होगा। इस गाइडलाइन को ‘आईसीसी बैक टू क्रिकेट गाइडलाइंस’ नाम दिया गया है। अब हर टीम को मुख्य चिकित्सा अधिकारी की नियुक्ति करनी होगी जिसका काम सरकार के नियमों का पालन कराना होगा। हर सीरीज से पहले 14 दिन का पृथक ट्रेनिंग कैंप भी लगाना होगा।

हालांकि पिछले 2 महीने से बंद क्रिकेट गतिविधियां कब से शुरू होंगी, पूरी गाइडलाइंस में इसका कहीं जिक्र नहीं किया गया है।

आईसीसी ने टीमों को मैच से पहले आइसोलेशन ट्रेनिंग कराने और कोविड-19 टेस्ट की बात कही है। इसके अलावा आईसीसी ने सभी खिलाड़ियों का कोविड 19 टेस्ट कराने को भी जरूरी बताया है। आईसीसी ने सभी टीमों को निर्देश दिया है कि वो खिलाड़ियों को कोविड-19 के लक्षणों के बारे में रिपोर्ट करने की प्रक्रिया सिखाएं। टीमों को मेडिकल रूम में बेड लगाने के निर्देश भी दिए गए हैं। आईसीसी ने कहा है कि वो बेड हर मरीज के आने से पहले और ठीक होने के बाद पूरी तरह से साफ होने चाहिए।

सुरक्षित जगहों पर कराए जाएं मैच

आईसीसी ने कहा है कि ऐसी जगह मैच कराए जाएं तो थोड़े सुरक्षित हों और वहां पर खिलाड़ियों को नुकसान नहीं पहुंचने की संभावना हो। मैच आयोजन की जगह पर कोविड-19 से निपटने के सारे इंतजाम हों। हर स्थान पर मैच से पहले डॉक्टरों की नियुक्ति जरूरी होगी जो कि खिलाड़ियों और मैच अधिकारियों को मेडिकल सेवा देंगे। मैच के वेन्यू पर कोरोना वायरस स्पेशलिस्ट अस्पताल होने चाहिए, ताकि इमरजेंसी के हालात में वहां तुरंत पहुंचा जा सके। सभी टीमों को खिलाड़ियों को गेंद पर थूक नहीं लगाने के दिशा-निर्देश देने होंगे। खिलाड़ियों और अंपायरों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी है।

admin