एमिरेट्स एयलाइंस ने एक ही दिन में 600 पायलटों को किया बेरोजगार

नई दिल्ली

कोरोना संकट… दुनिया की सबसे लग्जरी एयरलाइंस कंपनी भी कोरोना से प्रभावित, एविएशन सेक्टर में अब तक की सबसे बड़ी छंटनी, 6500 केबिन क्रू और इंजीनियरों को भी नौकरी से निकाला

अर्थव्यस्था की गति में रोढ़ा बनी वैश्विक कोरोना महामारी ने दुनियाभर के उद्योग धंधों को न सिर्फ नुकसान पहुंचाया है बल्कि लाखों लोगों को बेरोजगार कर दिया है। इस महामारी ने पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था को तहस नहस कर दिया है। एविएशन सेक्टर को कोरोना वायरस लॉकडाउन से बड़ा झटका लगा है। इसी के चलते अब दुनिया भर की एयरलाइंस कंपनियों ने छंटनी करनी शुरू कर दी है। बता दें कि दुबई की एमिरेट्स एयलाइंस कंपनी ने एक दिन में कुल 600 पायलटों की छंटनी कर दी है। इसके साथ ही 6500 केबिन क्रू और इंजीनियरों को नौकरी से निकाला है। इसके अलावा कंपनी ने सैलरी में 50 फीसदी कटौती सितंबर तक जारी रखने का फैसला किया है। नौकरी से निकाले गए ज्यादातर पायलट एयरबस ए-380 उड़ाते थे।

इन छंटनी किए गए पॉयलट्स में भारत के पायलट भी शामिल हैं। जो कि हाल ही इंडिगो का साथ छोड़कर इस कंपनी के साथ जुड़े थे। एविएशन सेक्टर में इसे सबसे बड़ी छंटनी माना जा रहा है। ताजा आंकड़ों के मुताबिक, 792 पॉयलटों को बाहर कर दिया गया है। एयरलाइन ने 31 मई से ही कर्मचारियों की छंटनी शुरू कर दी थी, जब उसने 180 पायलटों को बाहर का रास्ता दिखा दिया था। एमिरेट्स ग्रुप की इस सरकारी स्वामित्व वाली एयरलाइन कंपनी में करीब 60 हजार कर्मचारी काम करते हैं।

काम करने का अंतिम दिन 15 जून होगा

एक समाचार बेवसाइट को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, 9 जून को फायर किए ज्यादातर पायलट ऑफिसर थे जो ए380 टाइप रेटिंग के लिए प्रशिक्षण में शामिल थे। ये सभी पायलट प्रोबेशन पीरियड पर थे। एक सीनियर अधिकारी के मुताबिक, 9 जून को फायर किए गए ज्यादातर पायलटों ने ए380 को उड़ाया है। निकाले गए कर्मचारियों के लिए काम करने का अंतिम दिन 15 जून होगा। इन्हें मेडिकल बेनिफिट्स मिलते रहेंगे।

कोरोना से कंपनी का बिजनेस प्रभावित हुआ

एमिरेट्स एयरलाइन कंपनी अपनी बेहतर सर्विस के लिए जानी जाती है। कोरोना वायरस प्रकोप के चलते कंपनी अपनी कुछ फ्लीट को रिटायर करने की योजना बना रही है। एमिरेट्स के प्रवक्ता ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के चलते कंपनी का बिजनेस प्रभावित हुआ है। लिहाजा हम अपने अतिरिक्त संसाधनों को नहीं बनाए रख सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि सभी मामलों की समीक्षा करने के बाद हमें ऐसा कठोर निर्णय लेना पड़ा है। हमें बेहद दुख है कि कर्मचारियों को बाहर करना पड़ा रहा है। कंपनी ने कहा कि निकाले गए कर्मचारियों के लिए दूसरी जगह जॉब दिलाने की कोशिश करेंगे। प्रभावित कर्मचारियों की हर संभव सहायता करेंगे।

 

admin