किसान भाइयों, आप तो ऐसे न थे! अराजकता के बाद उठने लगे सवाल

नई दिल्ली । 26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद किसान आंदोलन बिखर गया है। संगठनों में फूट पड़ गई। दो संगठनों ने आंदोलन से अलग होने की घोषणा कर दी है। किसानों ने एक फरवरी के संसद मार्च को निरस्त कर दिया है। बुधवार देर रात दिल्ली-गाजीपुर बॉर्डर पर बिजली काट दी गई और पुलिस फोर्स बढ़ा दी गई।

राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के नेता वीएम सिंह ने भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत पर गंभीर आरोप लगाते हुए खुद और अपने संगठन को इस आंदोलन से अलग करने का फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि हम अपना आंदोलन यहीं खत्म करते हैं। हमारा संगठन इस आंदोलन से अलग है। उधर, भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष भानुप्रताप सिंह ने कहा कि मंगलवार को दिल्ली में जो कुछ भी हुआ, उससे मैं बहुत आहत हूं और 58 दिनों का अपना प्रोटेस्ट खत्म कर रहा हूं। इसी के साथ किसानों ने आंदोलन के लिए लगाए गए कई टेंट को हटाना शुरू कर दिया। यूपी गेट से कई लंगर व टेंट हटने लगे। एनएच-8 को भी खाली कर दिया है। 24 घंटे के अल्टीमेटम के बाद दिल्ली-जयपुर हाईवे भी खाली हो गया। नोएडा के चिल्ला बॉर्डर पर किसानों ने धरना समाप्त समाप्त कर दिया। इधर भाकियू के राकेश टिकैत ने कहा कि मैं पहले ही किसानों की जिम्मेदारी ले चुका हूं। जिन्हें आंदोलन छोड़ना हैं वे छोड़ दें।

37 एफआईआर दर्ज, डकैती का केस भी
ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय के सख्त रुख को देखते हुए दिल्ली पुलिस हरकत में है। पुलिस ने 93 लोगों को गिरफ्तार किया है। 200 लोगों को हिरासत में लिया है। साथ ही इस मामले में 37 एफआईआर दर्ज की हैं। इस मामले में 30 और एफआइआर दर्ज होने की संभावना है। नांगलोई में जो एफआईआर दर्ज की गई है उसमें डकैती का मामला भी दर्ज किया गया है। प्रदर्शनकारी वहां से पुलिस से आंसू गैस के 150 गोले छीनकर ले गए थे। राजधानी में कई स्थानों पर बुधवार को भी सुरक्षा कड़ी रही। खासकर लाल किले और किसानों के प्रदर्शन स्थलों पर अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई।

इन किसान नेताओं पर एफआईआर
दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र पर साइन करने वाले सभी किसान नेताओं पर एफआई दर्ज की है। दिल्ली पुलिस ने जिन किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है उनमें- राकेश टिकैत, योगेंद्र यादव, वीएम सिंह, विजेंदर सिंह, बलजीत सिंह रजवाल, दर्शन पाल, राजिंदर सिंह, हरपाल सिंह, विनोद कुमार, बलवीर सिंह राजेवाल, बूटा सिंह, जगतार बाजवा, जोगिंदर सिंह उगराहां, गौतम सिंह चढूनी, सरवन सिंह पंढेर और सतनाम पन्नू के नाम शामिल बताए जा रहे हैं।

394 पुलिसकर्मी घायल

ट्रैक्टर परेड में घायल पुलिसकर्मियों की संख्या भी बढ़कर 394 हो गई है। मंगलवार को ट्रैक्टर परेड के दौरान एक प्रदर्शनकारी किसान की मौत भी हो गई। पुलिस का दावा है कि आईटीओ के पास बैरिकेडिंग से टकराकर उसका ट्रैक्टर पलट गया, जिससे उसकी मौत हुई।

पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू पर आरोप

कुछ किसान नेताओं ने दीप सिद्धू पर किसानों को भड़काने और हिंसा फैलाने के आरोप लगाएं हैं। दीप सिद्धू पंजाबी अभिनेता है। दीप किंगफिशर मॉडल हंट और मिस्टर इंडिया कॉन्टेस्ट में मिस्टर पर्सनैलिटी रह चुके हैं।
गुरपतवंत सिंह पन्नूः अलगाववादी खालिस्तानी समूह, सिख फॉर जस्टिस के चीफ गुरपतवंत सिंह पन्नू ने लालकिले पर झंडा फहराने वाले को 2.5 लाख अमेरिकी डॉलर देने का एेलान किया था। दिल्ली पुलिस पन्नू के ऐलान को हल्के में लिया।

admin