पेंटागन की रिपोर्ट में चेतावनी, सैन्य ताकत में रूस-चीन से पिछड़ सकता है अमेरिका

चीन की बढ़ती सैनिक ताकत से अमेरिका में चिंता गहरा गई है। अब ये बात औपचारिक रूप से सामने आई है। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय, पेंटागन ने अपनी ‘2020 मिलिट्री पावर रिपोर्ट’ में आगाह किया है कि कई सैनिक आविष्कारों के मामले में अमेरिका चीन से पिछड़ रहा है। ताजा रिपोर्ट में ध्यान दिलाया गया है कि चीन अपनी सेना को आधुनिक बनाने का कार्यक्रम चला रहा है, जिसे वह 2035 तक पूरा कर लेगा। 2049 तक वह अपनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को ‘विश्व-स्तरीय’ सेना बनाने की योजना पर मुस्तैदी से काम कर रहा है। पेंटागन की इस सालाना रिपोर्ट में कहा गया है कि जिस तेजी से पीएलए ने प्रगति की है, उससे पेंटागन वाकिफ है। पेंटागन ने बड़े ढांचागत सुधार किए हैं। इसके तहत देश में बनी आधुनिक युद्ध प्रणालियों को तैनात किया गया है। चीन ने अपनी मुस्तैदी और साझा अभियान करने की क्षमता में उल्लेखनीय वृद्धि की है। रिपोर्ट में सैन्य तकनीक के मामले में रूस की प्रगति का भी जिक्र है। कहा गया है कि रूस और चीन दोनों की नई तकनीकी क्षमता से ही ये धारणा बनी है कि अमेरिका के दुनिया की अकेली महाशक्ति होने के दिन अब लद रहे हैं।

पेंटागन ने कहा है कि आने वाले वर्षों में युद्ध के जो नए क्षेत्र सामने होंगे, बाकी दुनिया ने उसके प्रति आंख मूंद रखी है। जबकि रूस और चीन ने इसी दिशा में प्रगति की है। इसमें कहा गया है कि अगर अमेरिका भावी युद्धों में रूस और चीन के मुकाबले की ताकत बने रहना चाहता है, तो उसे इन मामलों में आगे कदम बढ़ाने होंगे। रिपोर्ट में खासकर तीन तरह की तकनीक में रूस और चीन की प्रगति का जिक्र किया गया है। इनमें एक हाइपरसोनिक अस्त्र हैं। रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने पिछले साल दिसंबर में कहा था कि रूस दुनिया की अकेली ताकत है, जिसके पास हाइपरसोनिक हथियार तैनात करने की क्षमता है। तब उन्होंने दावा किया था कि इतिहास में ये पहला मौका है, जब किसी नए प्रकार के हथियार के मामले में रूस दुनिया की अग्रणी ताकत बन गया है। ताजा रिपोर्ट के पहले अमेरिकी कांग्रेस ये चेतावनी दे चुकी है कि रूस और चीन हाइपरसोनिक मिसाइलें बना रहे हैं, जिनका सुराग पाना और जिन्हें रास्ते में ही रोक पाना कठिन है। अमेरिकी रक्षा हलकों में ऐसी चर्चा रही है कि अमेरिका अंतरिक्ष में ऐसे सेंसर लगा सकता है, जिससे दुश्मन की मिसाइलों का तुरंत पता लगाया जा सके। लेकिन फिलहाल, अमेरिका के पास कोई सुपरसोनिक हथियार नहीं है, जबकि चीन ने भी इसका सफल परीक्षण कर लिया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *