कृषि उड़ान-किसान रेल शुरू करेगी सरकार

नई दिल्ली

वित्त वर्ष 2020-21 के लिए पेश आम बजट में किसानों और गांवों पर खास फोकस है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने पर कायम है। करीब तीन लाख करोड़ रुपए कृषि से जुड़ी गतिविधियों पर खर्च किए जाएंगे।

अर्थव्यवस्था में गांवों और खेती-किसानी का बड़ा योगदान है, इसलिए 2020-21 के लिए पेश आम बजट में भी इस क्षेत्र का खास ध्यान रखा गया है। वित्त मंत्री ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि केंद्र सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने पर कायम है। कृषि मंडियों में कामकाज में सुधार की जरूरत है, हम सस्टेनेबल क्रॉपिंग पैटर्न पर काम कर रहे हैं। हमारा खास फोकस दलहन पर है। किसानों को पीएम किसान योजना का लाभ मिल रहा है। इसके अलावा, पीएम कुसुम स्कीम के जरिए 20 लाख किसानों को सोलर पंप मुहैया करवाए जाएंगे और 100 सूखाग्रस्त जिलों के विकास पर काम होगा। उन राज्यों को प्रोत्साहित किया जाएगा जो केंद्र के मॉडल को मानेंगे। कृषि उड़ान लॉन्च की जाएगी। ये विमान कृषि मंत्रालय की तरफ से चलेंगे।

मिल्क, मीट, फिश को प्रीजर्व के लिए किसान रेल चलाई जाएंगीं। पानी की कमी की समस्या को दूर करने 100 ऐसे जिलों के लिए व्यापक प्रयास किए जाएंगे। वित्त मंत्री ने कहा कि 20 लाख किसानों को सोलर पंप देंगे। 15 लाख किसानों को ग्रिड कनेक्टेड पंपसेट से जोड़ा जाएगा। अगर बंजर जमीन है तो सोलर पावर जेनरेशन यूनिट लगा सकते हैं, उसे ग्रिड को बेच भी सकते हैं। 162 मिलियन टन के भंडारण की क्षमता है। नाबार्ड इसे जीयोटैग करेगा, नए बनाए जाएंगे, ब्लॉक और ताल्लुक के स्तर पर बनेंगे। सीतारमण ने कहा, “हमने 6.11 करोड़ किसानों पर फोकस किया है।

कृषि उपज, लॉजिस्टिक में ज्यादा निवेश करने की जरूरत है। इसके लिए 16 एक्शन पॉइंट्स बनाए हैं।” सरकार ने कुल 2.83 लाख करोड़ रुपए कृषि से जुड़ी गतिविधियों, सिंचाई और ग्रामीण विकास पर खर्च करने का प्रावधान किया है।

admin