कम्बाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में तैयार होगा मिलिट्री विजन

नई दिल्ली । गुजरात के केवड़िया में चल रहे कम्बाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस के दौरान तीनों सेनाओं के साथ साझा मिलिट्री विजन तैयार किया जाएगा। इसका मकसद भविष्य में देश के सामने आने वाली चुनौतियां का थलसेना, वायुसेना और नौसेना द्वारा साथ मिलकर सामना करने की रणनीति तैयार करना है। रक्षा मंत्रालय के सचिवों के साथ तीनों सेनाओं के टॉप कमांडर्स के ‘ब्रेन-स्टोर्मिंग’ सम्मेलन में दूसरे दिन शामिल होने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह शुक्रवार को सुबह केवड़िया पहुंच गए हैं। सैन्य बलों के प्रमुख सीडीएस बिपिन रावत तीनों सेनाओं के प्रमुखों के साथ पहले ही वहां मौजूद हैं।

कम्बाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस का यह चौथा संस्करण है जो दिल्ली से बाहर हो रहा है। वर्ष 2014 तक यह सम्मेलन राजधानी दिल्ली में ही आयोजित किया जाता था लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इसे दिल्ली से बाहर किसी ऑपरेशनल एरिया में करने का सुझाव दिया था, इसीलिए अब यह सम्मेलन दिल्ली से बाहर आयोजित किया जाता है। इससे बाद 2015 में यह सम्मेलन नौसेना के एयरक्राफ्ट कैरियर आईएनएस विक्रमादित्य पर आयोजित किया गया था। 2017 में देहरादून स्थित इंडियन मिलिट्री एकेडमी (आईएमए) और सीसीसी का आखिरी संस्करण 2018 में वायु सेना स्टेशन, जोधपुर में दो दिनों की अवधि में आयोजित किया गया था। इसके बाद उच्च रक्षा संगठन में कई प्रमुख विकास हुए हैं, जिनमें पहली बार चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की नियुक्ति और सैन्य मामलों के विभाग (डीएमए) की स्थापना हुई है। अब सशस्त्र बलों का आधुनिकीकरण करने के लिए कई महत्वपूर्ण और बहुपक्षीय मुद्दों पर चर्चा करके एक रोडमैप तैयार करना है।

गुजरात के केवड़िया में चल रहे कम्बाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस के दौरान एक साझा मिलिट्री विजन तैयार किया जाएगा। इसका मकसद भविष्य में देश के सामने आने वाली चुनौतियां का सेना के तीनों अंगों (थलसेना, वायुसेना और नौसेना) द्वारा मिलकर सामना करने की रणनीति तैयार करना है। डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री एफेयर्स (डीएमए) ने साझा कमांडर्स सम्मेलन पर गुरुवार देर शाम आधिकारिक बयान में बताया कि 4-6 मार्च तक होने वाले इस सम्मेलन में देश का संयुक्त शीर्ष-स्तरीय सैन्य नेतृत्व, देश की सुरक्षा स्थिति और रक्षा तैयारियों की समीक्षा कर रहा है। इस तीन दिवसीय सम्मेलन के दौरान भविष्य के लिए एक संयुक्त सैन्य दृष्टि विकसित करने के लिए प्रासंगिक संगठनात्मक मुद्दों पर विचार-विमर्श किया जा रहा है।

डीएमए के मुताबिक रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह शुक्रवार को रक्षा मंत्रालय के सचिवों के साथ तीनों सेनाओं के टॉप कमांडर्स के ‘ब्रेन-स्टोर्मिंग’ सम्मेलन में शामिल होंगे। शनिवार यानि सम्मेलन के आखिरी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल कॉन्फ्रेंस को संबोधित करेंगे। इस साल सम्मेलन के दायरे का विस्तार किया गया है ताकि इसे तीनों सेवाओं के लगभग 30 अधिकारियों और विभिन्न रैंकों के सैनिकों को शामिल करके बहुस्तरीय इंटरैक्टिव और अनौपचारिक बनाया जा सके।

admin