मस्जिद में हुई हिंदू जोड़े की शादी, उपहार में मिले सोने के सिक्के

अलप्पुझा

केरल में सांप्रदायिक एकता की मिसाल… सीएम पिनराई विजयन ने बधाई देकर कहा, केरल एक है और आगे भी रहेगा

केरल के लोगों ने सामाजिक एकता की शानदार मिसाल पेश की है। रविवार को केरल के अलप्पुझा की एक मस्जिद में हिंदू जोड़े की शादी करवाई गई। इस विवाह समारोह में दोनों समुदायों के लोग शामिल हुए। इस शादी का आयोजन चेरुवली मुस्लिम जमात मस्जिद ने किया था।

केरल के सीएम पिनरई विजयन ने भी फेसबुक पर पोस्ट लिखकर इस जोड़े को बधाई दी। उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर लिखा कि केरल एक है और आगे भी रहेगा। बताया गया कि मस्जिद में हुई इस शादी में मंत्र पढ़े गए और जोड़े ने आग के समक्ष सात फेरे लिए। दुल्हन अंजू और दूल्हे शरत ने एक-दूसरे को माला पहनाई। मस्जिद परिसर में मौजूद पंडित ने विधि-विधान से दोनों की शादी करवाई। इसके बाद शादी में आए लोगों के लिए शाकाहारी भोजन का भी इंतजाम किया गया था।

इस बारे में केरल के सीएम पिनरई विजयन ने भी अपने फेसबुक पर पोस्ट की। उन्होंने नवविवाहित जोड़े को बधाई देने के साथ-साथ लोगों को भी बधाई दी। उन्होंने आगे लिखा, ‘केरल ने हमेशा से ही सांप्रदायिक सौहार्द्र के शानदार उदाहरण पेश किए हैं। यह शादी उस वक्त हुई है, जब धर्म के नाम पर लोगों को बांटने की कोशिश हो रही है। केरल एक है और हमेशा एक रहेगा।’

बताते चलें कि दुल्हन अंजू गरीब परिवार से है। ऐसे में अंजू की मां ने मस्जिद कमेटी से मदद मांगी थी। मस्जिद कमेटी के लोगों ने आगे आकर ना सिर्फ अंजू की शादी करवाई, बल्कि मस्जिद में शादी करवाकर एक शानदार नजीर पेश की। मस्जिद कमेटी ने दुल्हन को सोने के 10 सिक्के और दो लाख रुपए भी तोहफे के रूप में दिए। मस्जिद कमेटी के नुजुमुद्दीन ने बताया कि लगभग 1000 लोगों के खाने का भी इंतजाम किया गया था।

मस्जिद कमेटी ने लिया परिवार की मदद का फैसला

नुजुमुद्दीन ने आगे कहा कि उन्होंने छोटे बच्चे की शिक्षा के लिए व्यक्तिगत तौर पर मदद की थी। इस बार मस्जिद कमेटी से अपील की गई थी, क्योंकि शादी का खर्च काफी अधिक होता है। मस्जिद कमेटी ने परिवार की मदद का फैसला किया था। उन्होंने यह भी बता कि 2018 में अंजू के पिता अशोकन की मौत के बाद परिवार बहुत कठिन हालात का सामना कर रहा है।

admin