‘दंगाइयों’ के होर्डिंग के खिलाफ चिन्मयानंद और सेंगर के होर्डिंग

लखनऊ

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा करने वाले आरोपियों के होर्डिंग लगवाने को लेकर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक ओर जहां इलाहाबाद हाईकोर्ट के होर्डिंग हटवाने के आदेश के खिलाफ यूपी सरकार सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है, वहीं समाजवादी पार्टी के नेता इसके खिलाफ अलग तरह से ही विरोध जता रहे हैं।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता आईपी सिंह ने लखनऊ के लोहिया चौराहे पर गुरुवार देर रात प्रशासन द्वारा लगाई गईं ‘दंगाइयों’ के होर्डिंगों के पास ही दूसरा होर्डिंग लगवाया। इन होर्डिंगों पर लिखा है, ‘ये हैं प्रदेश की बेटियों के आरोपी, इनसे रहें सावधान’। इन होर्डिंगों पर लॉ स्टूडेंट से रेप के आरोपी पूर्व केन्द्रीय मंत्री चिन्मयानंद और उन्नाव रेप केस के दोषी कुलदीप सिंह सेंगर की तस्वीरें लगी हैं। इन होर्डिंगों पर ‘बेटियां रहें सावधान, सुरक्षित रहे हिंदुस्तान’ भी लिखा है।

होर्डिंगों की तस्वीरों को आईपी सिंह ने ट्विटर पर भी शेयर किया है। आईपी सिंह ने लिखा, ‘जब प्रदर्शनकारियों की कोई निजता नहीं है और हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी योगी सरकार होर्डिंग नहीं हटा रही है तो ये लीजिए फिर। लोहिया चौराहे पर मैंने भी कुछ कोर्ट द्वारा नामित अपराधियों के पोस्टर जनहित में जारी कर दिए हैं, इनसे बेटियां सावधान रहें।’ वहीं दूसरी ओर इन होर्डिंगों के लगने की जानकारी मिलते ही पुलिस तुरंत सक्रिय हुई और मौके पर पहुंचकर इन्हें हटवाया।

यूपी सरकार का हाथ, अपराधियों के साथ: सिंह

होर्डिंग हटवाए जाने की खबर मिलने के बाद आईपी सिंह ने ट्वीट किया, ‘आधी रात को ‘बेटियों के आरोपियों’ का पोस्टर लगते ही पूरा पुलिस महकमा ‘सेंगर और चिन्मयानंद’ की इज्जत बचाने में लग गया। अगर यही तत्परता पुलिस बेटियों की सुरक्षा में दिखाती तो अपराध में यूपी नम्बर वन नहीं बनता। यूपी सरकार का हाथ, अपराधियों के साथ। योगी सरकार पूरी तरह एक्सपोज हो गई।’ बता दें कि उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सीएए विरोधी प्रदर्शनों के दौरान हिंसा हुई थी। उप्र सरकार ने हिंसा भड़काने वालों के पोस्टर लगवा दिए थे।

admin