किस समूह को कितने करोड़ रुपए का कर्ज़ बांटा यस बैंक ने

विभव देव शुक्ला

देश में बैंकों के हालात किसी से छिपे नहीं हैं और अब इस कतार में सबसे नया नाम है यस बैंक। बैंक लगभग डूबने की कगार पर पहुँच चुका है और उबरने के लिए कोई आसार नहीं नज़र आ रहे हैं। खबरों में चर्चा यहाँ तक है कि यस बैक के संस्थापक राणा कपूर का रवैया लोगों को कर्ज़ देने के मामले में बेहद लचर था। उन्होंने तमाम दिग्गजों और समूहों को कर्ज़ देने के दौरान भी नियमों की अनदेखी की।

3 लाख करोड़ की पूंजी वाला बैंक
देश का 5वां सबसे बड़ा निजी बैंक ‘यस बैंक’ हमेशा से सुर्खियों में था। यस बैंक के बारे में कहा जाता है कि इस बैंक ने डिफौल्टर समूहों को भी कर्ज़ दिए। इस बैंक की हालत ऐसी होने की सबसे बड़ी वजह यही बताई जा रही है कि इस बैंक ने कर्ज़ बांटने में हमेशा नियमों की अनदेखी की। आज से कुछ ही समय पहले तक 3 लाख करोड़ रुपए की पूंजी के साथ यह बैंक देश का 5वां सबसे बड़ा बैंक था।
यस बैंक ने जिन्हें कर्ज़ दिया है उनमें कई दिग्गजों के नाम शामिल हैं। अनिल अंबानी समूह, सीजी पावर, आईएस एंड एफएस, वरदराज सीमेंट समेत ऐसे तमाम बड़े समूह हैं जिन्हें यस बैंक ने करोड़ों रुपए का कर्ज़ दिया है। लगभग सारे ही समूह डिफौल्टर साबित हुए हैं और इन लोगों के चलते ही यस बैंक की हालत ऐसी हो गई है। ऐसे में सवाल उठता है कि इनमें से किस समूह या किस व्यक्ति पर कितने का कर्ज़ हैं?

किस पर कितने करोड़ का कर्ज़
आईएल एंड एसएफ पर यस बैंक के 2442 करोड़ रुपए बकाया हैं। इसके अलावा रिलायंस समूह के तहत आने वाले तमाम छोटे बड़े समूहों पर यस बैंक के 13000 करोड़ रुपए बकाया हैं। हाल ही में रिलायंस के कई समूह कर्ज़ न दे पाने की वजह से डिफौल्टर साबित हुए हैं। एसआर समूह पर यस बैंक के 3300 करोड़ रुपए बकाया हैं।
कुछ इस तरह साल 2017 के दौरान यस बैंक ने कुल 6355 करोड़ रुपए का कर्ज़ छिपाने की कोशिश की थी। उस वक्त से आरबीआई ने यस बैंक पर कदम उठाना शुरू किया था। जिसके बाद बैंक के सीईओ राणा कपूर को पद से हटने का आदेश दे दिया गया था और 2018 की शुरुआत से बैंक की हालत बदतर हो गई थी। सबसे पहले बैंक के 30 फीसदी शेयर गिर गए थे।

admin