कोरोना के खिलाफ जंग में हम कितने कामयाब, 6 को चलेगा पता

नई दिल्ली

देश में दो महीने पहले कोरोना वायरस से संक्रमण का पहला मामला सामने आया था। अब करीब 1397 लोगों में कोविड-19 बीमारी की पुष्टि हो चुकी है। भारत उन देशों में शामिल है जहां पिछले हफ्ते मरीजों की तादाद 1,000 पर पहुंच गई। वहीं, यह 1,000 का आंकड़ा पार करने वाले 42 देशों में शुमार हो चुका है। अब सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अब देश में मरीजों की तादाद किस रफ्तार से बढ़ती है। तब इस सवाल का भी जवाब मिल जाएगा कि क्या पहले सप्ताह का देशव्यापी लॉकडाउन कितना कारगर साबित हुआ है। आइए देखते हैं कि अलग-अलग देशों में कोविड-19 मरीजों का आंकड़ा 1,000 को छूने के बाद मरीजों की वृद्धि दर क्या रही और भारत की स्थित

अगले सप्ताह यानी 6 अप्रैल तक क्या हो सकती है…

देश में कोविड-19 के 1300 के करीब मरीज हो गए हैं। सरकार का कहना है कि कोरोना का संक्रमण अब भी दूसरे चरण में ही है। अभी यह तीसरे चरण के कम्यूनिटी लेवल पर नहीं पहुंचा है। हालांकि, इसका पता अगले हफ्ते तक लग जाने की उम्मीद है कि कोरोना के खिलाफ अब तक के प्रयास कितने प्रभावकारी रहे हैं। अगर 1,000 की संख्या छूने के बाद वाले हफ्ते में मरीजों की तादाद में वृद्धि की दर चीन जैसी रही तो देश में अगले हफ्ते तक 9,000 से ज्यादा कोविड-19 मरीज हो सकते हैं। लेकिन, अगर यह वृद्दि दर जापान जैसी रही तो अगले हफ्ते तक मरीजों की संख्या 1,500 के आसपास तक सीमित रहेगी।

भारत में क्या हो सकता है?

मौजूदा वृद्धि दर से देश के सबसे प्रभावित राज्यों में मरीजों की संख्या 6 अप्रैल तक दोगुनी हो सकती है। इस अवधि में 10 राज्यों- केरल, महाराष्ट्र, दिल्ली, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, गुजरात, राजस्थान, तमिलनाडु और पंजाब- में मरीजों की संख्या कुल मिलाकर 2,000 के पार कर सकती है।

यहां 1000 के बाद तेजी से बढ़े मरीज

चीन, स्पेन और अमेरिका में कोरोना मरीजों की तादाद 1000 के पार करने के बाद कोरोना संक्रमण में बड़ी तेजी आई। चीन में अगले एक हफ्ते में मरीजों की तादाद बढ़कर 9140, स्पेन में 7817 जबकि अमेरिका में 7348 पहुंच गई।

इनमें 1000 के बाद सबसे कम बढ़े मरीज

उधर, स्वीडन, डेनमार्क और जापान में मरीजों की तादाद 1000 छूने के बाद संक्रमण की वृद्धि दर कम रही। स्वीडन में अगले सप्ताह तक 1891, डेनमार्क में 1591 तो जापान में महज 1524 मामले ही रहे।

तमिलनाडु की वृद्धि दर सबसे तेज

उधर, केरल और महाराष्ट्र में जिस रफ्तार से मरीजों की संख्या बढ़ रही है, उससे अगले हफ्ते तक दोनों राज्यों में आंकड़ा 5-5 सौ के पार पहुंचने की आशंका है। वहीं, अगर तमिलनाडु में मौजूदा वृद्धि दर ही जारी रही तो प्रदेश में मरीजों की संख्या अगले हफ्ते तक पांच गुना हो सकती है।

admin