देश को जरूरत पड़ी तो फिर कर्तव्य निभाने आ गए रिटायर्ड फौजी

विवेक सोनी | नीमच

कोरोना से युद्ध : पुलिस के साथ दे रहे ड्यूटी

कोरोना वायरस से लड़ाई के लिए पुलिस 24 घंटे मोर्चे पर डटी हुई है। प्रशासन लगातार दौड़ रहा है, स्वास्थ्य विभाग सहित अन्य सरकारी अमला अपने-अपने कर्तव्य में लगा हुआ है। ऐसे में देश को जरूरत पड़ी तो रिटायर्ड फौजियों ने फिर से वर्दी पहन ली है। संकट की इस घड़ी में मनासा क्षेत्र के रिटायर्ड फौजी भी अपना कर्तव्य निभाने के लिए पुलिस के साथ कदम से कदम मिलाने के लिए मोर्चे पर डट गए हैं।

नीमच जिले के मनासा क्षेत्र में भारतीय सेना से रिटायर्ड हुए 5 जवान रहते हैं। वे यहीं के निवासी हैं। ये पांचों जवान मनोज पुरोहित, भरत नाथ कृपलानी, रामनिवास कारपेंटर, यशवंत कुमार वैध और शंभूलाल नायक अपनी सेवाएं मनासा थाना क्षेत्र में दे रहे हैं। सालों तक देश सेवा में अपना जीवन जीने वाले इन सैनिकों ने आज फिर कोरोना वायरस से लड़ाई के लिए मोर्चा संभाल लिया है। पुलिस के साथ ये आर्मी के रिटायर्ड जवान पूरी मुस्तैदी के साथ क्षेत्र में डटे हुए हैं। वे कहते हैं कि आज कोरोना महाराक्षस से लड़ने के लिए हर कोई अपने-अपने स्तर पर अपना कर्तव्य निभा रहा है। ऐसे में भला हम घर कैसे बैठ सकते हैं। जब हमारे शहर को, हमारे राष्ट्र को हमारी जरूरत है तो हमने भी अपनी वर्दी वापस पहन ली है।

आर्मी जवानों को सेवा देते देखकर आम नागरिकों में भी लड़ाई का जज्बा जागा है और हर कोई सैनिकों के इस प्रयास की सराहना कर रहा है। ग्राम सांडिया कैलाश पुरोहित, भाटखेड़ी के बबलू चौधरी, मनासा के हरीश एनिया और सूरज अड़ावदिया का कहना है कि धन्य हैं ये रिटायर्ड आर्मी जवान जो आज भी देश के लिए मोर्चे पर डटे हुए हैं। ऐसे में हर नागरिक को भी अपना-अपना कर्तव्य निभाना है और अपने घरों में ही रहना है। कोई भी घर से बाहर नहीं निकले और लॉकडाउन का पूरा पालन करे, ताकि हम कोरोना से लड़ाई जीत सकें।

admin