केरल में लगभग 80 से ज़्यादा चाय बागान के मजदूर भूस्खलन के भयानक हादसे में दब गए हैं

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

केरल के मुन्नार में लगातार हो रही बारिश के चलते एक बड़ा भूस्खलन हुआ है। इस हादसे में अब तक 5 लोगों की मौत हो गई है। वहीं चाय बागानों में काम करने वाले कई मजदूर फंस गए हैं।

इस हादसे में कई श्रमिक लापता है। मौके पर राहत कार्य चल रहा है। अब तक पांच मजदूरों के शव निकाले जा चुके हैं जबकि दस को जिंदा निकाला गया है।

मजदूरों की पूरी एक बड़ी कॉलोनी सी बनी हुई थी

हादसा केरल के इडुक्की जिले के राजमाला इलाके का बताया जा रहा है। इस वक़्त इलाके में हड़कंप मचा है। राहत कार्य के लिए कई टीमें लगाई गई हैं।

जिस जगह पर भूस्खलन हुआ वहां पर चाय के बागान में काम करने वाले मजदूर शेल्टर बनाकर रहते थे। यहां मजदूरों की लगभग पूरी एक बड़ी कॉलोनी सी बनी हुई थी।

सभी आपातकालीन सेवाओं को वहां लगा दिया गया है

लैंड स्लाइड के बाद बड़ा सा मलबा शेल्टर हाउसेस के ऊपर गिरा और सभी दब गए। बताया जा रहा है कि अधिकांश मजदूर तमिलनाडु के रहने वाले थे और यहां रहकर मजदूरी करते थे।

राज्य के ऊर्जा मंत्री एम.एम. मणि ने कहा, “भूस्खलन ऐसी जगह पर हुआ था, जहां चाय के मजदूर रहते हैं। यह स्थान एक पहाड़ी के शीर्ष पर है। स्थानीय विधायक भी मौके पर जा रहे हैं। सभी आपातकालीन सेवाओं को वहां लगा दिया गया है।”

एनडीआरएफ की टीम को काफी मशक्कत करना पड़ रहा है

ये घटना रात 12 से 1 बजे के बीच हुई है। स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के मुताबिक इस भूस्खलन से सिर्फ तीन ही लोग बाहर निकल पाए अभी भी ऐसी आशंका है कि कई सारे लोग मलबे में दबे हैं। एनडीआरएफ की टीम को उस जगह तक पहुंचने में काफी मशक्कत का सामना करना पड़ा है।

फिलहाल एक टीम वहां तक पहुंच पाई है ऐसी सूचना मिल रही है सीएम पिनरायी विजयन ने त्रिशूर से भी एनडीआरएफ की एक बड़ी टीम को इडुक्की के लिए रवाना करने का निर्देश दिया है। साथ ही एसडीआरएफ, अग्निशमन विभाग दल और स्थानीय पुलिस भी मौके पर पहुंच रही है।

उत्तरी केरल में भारी बारिश के मद्देनजर वायनाड और इडुक्की जिलों के लिए ‘रेड अलर्ट’ जारी किया गया है। वहीं, चेलियार नदी उफान से नीलांबुर शहर में बाढ़ आ गई है।

admin