सुबह जब विशाखापट्टनम की गलियों से अचानक हज़ारों लोग बचाने की गुहार लगाने लगे

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

देश के सबसे आधुनिक और व्यवस्थित शहरों में शामिल माने जाने वाले आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में केमिकल गैस का रिसाव हुआ है। यहां के आरआर वेंकटपुरम गांव में एलजी पॉलिमर इंडस्ट्री से गैस का रिसाव हुआ है, जिसका असर तीन किलोमीटर तक के एरिया में देखा जा रहा है।

यहां एक बच्ची समेत 10 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। इसके अलावा 5000 से अधिक लोग बीमार हो गए हैं जिन्हें अस्पताल ले जाया जा रहा है। राहत और बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ की टीमें तैनात कर दी गई हैं। लोगों को घरों से निकाला जा रहा है। कई लोग फुटपाथ और सड़कों पर बेहोश हालत में पड़े मिले हैं।

जानकारी के मुताबिक, गैस का रिसाव सुबह 4 बजे हुआ, तब लोग नींद में थे। स्टायरिन गैस के लीक होने से यह हादसा हुआ है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना को लेकर गृह मंत्रालय से बात की। आंध्र प्रदेश डीजीपी दामोदर गौतम सवांग ने बताया, ‘फिलहाल गैस को बेअसर कर दिया गया है। करीब 800 लोग अस्पताल में भर्ती हैं जबकि कई डिस्चार्ज किए जा चुके हैं। गैस कैसे लीक हुई इसकी जांच की जाएगी।’

विशाखापट्टनम नगर निगम ने गैस लीक के खतरे के कारण लोगों से आग्रह किया है कि लोग मास्क जरूर लगाएं। निगम ने एक नक्सा भी जारी किया है जिसमें खतरे वाले क्षेत्रों को दर्शाया गया है। मास्क नहीं होने पर कपड़े से चेहरा ढंकने की सलाह दी गयी है। घटना के सामने आते ही स्थानीय पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और लोगों को निकालना शुरू किया। अभी घटना का कारण पता नहीं लग पाया है।

गोपालपुरम इलाके के लोगों ने आंखों में जलन, सांस लेने में तकलीफ, जी मचलाना और शरीर पर लाल चकत्ते पड़ने की शिकायत दर्ज की है। तस्वीरों में दिख रहा है कि इंसान के साथ जानवर भी इस गैस के शिकार हुए हैं। बताया जा रहा है कि किंग जॉर्ज अस्पताल में काफी लोगों को भर्ती कराया गया है, जिनमें से कई की हालत नाजुक बताई जा रही है।

रिपोर्टों में बताया गया है कि गैस रिसाव को काबू कर लिया गया है। वहीं, अमित शाह ने कहा कि विशाखापत्तनम में गैस रिसाव की घटना परेशान करने वाली है। हम निरंतर स्थिति पर नजर रख रहे हैं।

admin