भारत का लॉकडाउन विकसित देशों से बेहतर : ऑक्सफोर्ड

लंदन

ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने 17 पैमानों पर अलग-अलग देशों में लगाए लॉकडाउन का अध्ययन किया है। यूनिवर्सिटी ने भारत में लागू लॉकडाउन को कई विकसित देशों से बेहतर माना है। अध्ययन में इन देशों के लॉकडाउन के 17 अलग-अलग पहलुओं पर रिसर्च की गई है। इससे पता चला है कि भारत द्वारा लागू किया गया लॉकडाउन कई पैमानों पर बाकी कई देशों से अच्छा साबित हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक भारत ने कोरोना वायरस के शुरुआती चरणों में सबसे सख्त तरह का लॉकडाउन अपने यहां लागू किया।

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने दुनियाभर में कोरोना वायरस के मामलों का अध्ययन करने के लिए एक ऑक्सफोर्ड कोविड-19 गवर्नमेंट रेस्पॉन्स ट्रैकर बनाया हुआ है। इस ट्रैकर के साथ 100 लोगों की एक टीम काम कर रही है जो 17 अलग-अलग संकेतकों पर सरकार के रवैये की जानकारी ट्रैकर में फीड करती है। इन 17 संकेतकों को तीन हिस्सों में बांटा गया है। पहले हिस्से में बंद के संकेतक हैं जिनमें स्कूलों को बंद करना, दफ्तरों को बंद करना, सार्वजनिक कार्यक्रम रद्द करना, सार्वजनिक परिवहन रद्द करना, घर पर रहने के सख्त नियम बनाना शामिल हैं। दूसरे हिस्से में आर्थिक नीतियों से जुड़े संकेतक हैं। जैसे लोगों को न्यूनतम आय देना और दूसरे देशों की मदद का प्रावधान शामिल है।

तीसरे हिस्से में चिकित्सा सुविधाओं से जुड़े संकेतक शामिल हैं जैसे टेस्टिंग और आपातकालीन सुविधाओं में सरकार द्वारा किया जा रहा नया निवेश। इस अध्ययन में देशों को 100 में से अंक दिए गए हैं। भारत, रूस, दक्षिण अफ्रीका, पाकिस्तान, बोलिविया आदि इस ट्रैकर में सबसे ज्यादा स्कोर वाले देशों में शामिल हैं। अध्ययन में ये भी देखा गया कि कौन से देश विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस का पालन ठीक से कर रहे हैं।

इसलिए अच्छा रहा सरकार का फैसला

अध्ययन से पता चला है कि कई देशों में लॉकडाउन में सख्ती के साथ ही मौत के आंकड़ों का ग्राफ फ्लैट होता चला गया। जैसे इटली, स्पेन, फ्रांस और चीन ने लॉकडाउन में सख्ती की तो यहां होने वाली मौतों की संख्या में कमी आती चली गई। हालांकि अमेरिका और ब्रिटेन में अभी ऐसा होता नहीं दिख रहा। लॉकडाउन की सख्ती के हिसाब से मौत के आंकड़ों में हुए सुधार की बात की जाए तो देशों का एक क्रम निकलकर आता है। इस क्रम में फ्रांस, इटली, ईरान, जर्मनी, ब्रिटेन, नीदरलैंड्स, स्वीडन, मेक्सिको, कनाडा, बेल्जियम, आयरलैंड, अमेरिका, तुर्की, इजरायल, चीन, भारत और स्विट्जरलैंड निकलकर आते हैं। अध्ययन में शामिल अधिकतर देशों ने अपने यहां 500 से ज्यादा मामले सामने आने पर लॉकडाउन लगाया जबकि भारत ने 320 मामले सामने आने पर ही लॉकडाउन लगा दिया।

admin