इंदौर तीन दिन पूर्ण लॉकडाउन घर से निकले तो होगी जेल

नगर संवाददाता | इंदौर

कोरोना से लड़ने प्रशासन सख्त… इंदौर को सफाई में नंबर एक बनाने वाले मनीष सिंह ने कलेक्टर
की जिम्मेदारी संभालते ही कोरोना से लड़ने के सख्त इरादे जाहिर कर दिए। शनिवार देर रात तक बैठक के बाद सोमवार से तीन दिनों तक इंदौर को पूर्ण लॉकडाउन का फैसला लिया। इस दौरान कोई भी सड़क पर घूमता दिखा तो उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा। लॉकडाउन तोड़ने वालों के लिए अस्थाई जेल भी तैयार कर ली गई है।


इंदौर में कोरोना संक्रमण के भयावह विस्तार को देखते हुए नए कलेक्टर मनीष सिंह ने कई कड़े फैसले लिए हैं। सोमवार से तीन दिनों तक पूर्ण लॉकडाउन होगा। दवा दुकान को छोड़ अन्य कोई दुकान नहीं खुलेगी। अगले 3 दिन पूरी सख्ती के साथ पुलिस-प्रशासन का अमला मैदान में रहेगा। इस दौरान किसी को भी घर से बाहर निकलने की इजाजत नहीं होगी। ऑड-इवन फॉर्मूला भी निरस्त कर दिया गया है। दूध की सप्लाई सोमवार को बंद रहेगी। मंगलवार से शुरू हो जाएगी। फल-सब्जी-किराने की दुकानें पूरी तरह बंद रहेंगी। मदद के नाम पर खाना बांटने वाली सामाजिक संस्थाओं को भी कहा गया है कि जरूरत पड़ेगी तो प्रशासन खुद उनसे मदद मांगेगा, इसलिए आप अपना काम बंद कर दें।

कलेक्टर ने कहा कि सुबह 8 से 1 बजे की छूट फिलहाल खत्म कर दी गई है। अभी वक़्त किसी तरह की छूट या बाहर घूमने का नहीं है। सभी कर्फ्यू पास भी निरस्त कर दिए गए हैं। प्राथमिकता के आधार पर दोबारा बनाए जाएंगे। हमें अभी मूसाखेड़ी, रानीपुरा, चंदननगर, खजराना, नयापुरा, हाथीपाला, टाटपट्‌टी जैसे कंटेनमेंट एरिया में सख्ती से कंट्रोल करना है। जो भी लोग किसी के संपर्क में आए हैं, उन्हें क्वारंटाइन करना पहली प्राथमिकता है। प्रशासन ने शहर में लोगों की अनावश्यक आवाजाही को सख्ती से रोकने के लिए पहले जारी किए गए पास भी निरस्त कर दिए हैं। उन क्षेत्रों में जहां कोरोना के मरीज मिले है, पुलिस बल तैनात रहेगा, नियमों का पालन नहीं करने वालों पर धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी। इसलिए किसी को भी घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं दी जाएगी। जो छात्र हॉस्टल में हैं, उनके खाने की व्यवस्था हॉस्टल संचालकों को ही करनी होगी। श्रमिकों के भोजन की जिम्मेदारी संबंधित ठेकेदार की है।

आइसोलेशन के लिए दो होटल भी किए गए अधिगृहित

गोकुलदास और विशेष जैसे अस्पताल टेकओवर करने के बाद अब जिला प्रशासन ने आइसोलेशन सेंटर के लिए 2 निजी होटल अधिग्रहित किए हैं। जहां संक्रमित मरीजों के संपर्क में आए लोगों को रखा जाएगा। प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार अधिग्रहित होटलों में टीसीएल और होटल प्रेसिडेंट शामिल हैं। टीसीएल में 117 रूम हैं, जबकि प्रेसिडेंट में 48 कमरे। ऐसे दोनों होटलों में कुल 165 रूम उपलब्ध रहेंगे। इंदौर होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष सूमित सूरी ने भी अपने होटल-गार्डन में 50 कमरे आरक्षित कर दिए हैं। संगठन का हर होटल मदद के लिए तैयार है।

…तो संभाले नहीं संभलेगा इंदौर

अस्पतालों की एक सीमा है। लोगों ने गंभीरता नहीं समझी और केस बढ़ते गए तो संभाल पाना मुश्किल हो जाएगा। पैनिक होने की जरूरत नहीं है। 80-90 प्रतिशत मामलों में लोग घर में रहकर अपना इलाज करवा सकते हैं।
मनीष सिंह, इंदौर कलेक्टर

अतिरिक्त बल की चार टुकड़ियां बुलाई गई

इंदौर के हालात को देखते हुए 4 अतिरिक्त बल की टुकड़ियां बुलाई गई हैं, ताकि सड़कों पर निकलने वालों पर काबू पाया जा सके। रविवार को शहर में 70 दोपहिया वाहनों पर कार्रवाई की गई, जो बिना वजह ही सड़कों पर घूम रहे थे।

संक्रमण की चेन तोड़ने को प्रशासन के बड़े कदम

जरूरतमंदों में बंटेगा खाने का पैकेट,संपूर्ण लॉकडाउन में मेडिकल स्टोर्स को छूट रहेगी। ऐसे मेडिकल सख्ती से बंद कराए जाएंगे, जहां दवा के साथ अन्य वस्तुएं भी मिलती हैं। कलेक्टर ने कहा कि दूध की सप्लाई सोमवार को बंद रहेगी, पर मंगलवार से शुरू हो जाएगी। कलेक्टर और डीआईजी की मीटिंग में यह निर्णय लिए गए हैं। आटा मिलों की सूची तैयार की गई है। उनसे संपर्क किया जा रहा है। जिला प्रशासन की कोशिश रहेगी कि जरूरतमंदों को राशन की किट उपलब्ध कराएं। आलू-प्याज भी देंगे। भोजन के 5-10 हजार पैकेट तैयार करवाकर जनता में से ही कुछ लोंगों को बुलवाकर पैकेट वितरित करवा देंगे।

अतिरिक्त बल की चार टुकड़ियां बुलाई गई

इंदौर के हालात को देखते हुए 4 अतिरिक्त बल की टुकड़ियां बुलाई गई हैं, ताकि सड़कों पर निकलने वालों पर काबू पाया जा सके। रविवार को शहर में 70 दोपहिया वाहनों पर कार्रवाई की गई, जो बिना वजह ही सड़कों पर घूम रहे थे।

तीन श्रेणी में बांटेंगे अस्पतालों को

शहर के अस्पतालों को तीन श्रेणी में बांटा जाएगा। रेड कैटेगरी में सिर्फ कोरोना संक्रमितों-संदिग्धों का इलाज होगा। यलो कैटेगरी में सामान्य सर्दी-खांसी-बुखार का। ग्रीन कैटेगरी में अन्य सभी तरह का इलाज होगा।

admin