आईएसएल-7 : आत्मसम्मान के लिए भिड़ेंगे केरला और चेन्नइयन

गोवा। हीरो इंडियन सुपर (आईएसएल) के सातवें सीजन में प्लेआफ की रेस से बाहर चुकी चेन्नइयन एफसी आज बोम्बोलिम के जीएमसी स्टेडियम में केरला ब्लास्टर्स के खिलाफ होने वाले मुकाबले में जीत के साथ इस सीजन को अलविदा कहना चाहेगी।

केरला को हालांकि इसके बाद एक मैच और खेलने हैं। लेकिन टीम को पिछले छह मैचों से एक भी जीत नहीं मिली है। कई मौकों पर उनका डिफेंस उन्हें ले डूबा है। उन छह मैचों में केरला ने 12 गोल खाएं हैं। अंतरिम कोच इश्फाक अहमद चेन्नइयन के खिलाफ टीम की कमान संभालेंगे और उनकी टीम प्रेरित है। उन्होंने कहा, हम अभी जिस स्थिति में है, वह एक मुश्किल स्थिति है। कई चीजों को बदलने के लिए ज्यादा समय नहीं है। ऐसी चीजें हैं जिन्हें हम सुधारना चाहते हैं।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि लड़के प्रेरित होते हैं। मेरे लिए, गर्व और आत्मसम्मान के लिए खेलना ही सबकुछ है। मुझे लगता है कि वे इन दो मैचों के लिए तैयार हैं। दूसरी तरफ, चेन्नइयन की किस्मत उसके साथ नहीं रही है। टीम को पिछले आठ मैचों से जीत नहीं मिली है। टीम को एफसी गोवा और नॉर्थईस्ट युनाइटेड के खिलाफ पिछले दो मैचों में इंजुरी टाइम में गोल खाना पड़ा है। हालांकि, कसाबा लाजलो को इससे कोई शिकायत नहीं है।

उन्होंने कहा, “ मुझे कई कारणों से टीम पर गर्व है। उन्होंने टीमों की परवाह किए बिना चरित्र दिखाया। व्यावहारिक रूप से टीम ने अच्छा चरित्र दिखाया लेकिन हमने एफसी गोवा और नॉर्थईस्ट के खिलाफ दो अंक गंवाए।” केरला ब्लास्टर्स के खिलाफ जीत से चेन्नइयन के लिए कुछ नहीं बदलेगा, लेकिन कोच फैन्स के लिए इस मैच को जीतना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, “ हम अपने प्रशंसकों, अपने क्लब मालिकों और बाकी सभी को दिखाना चाहते हैं कि हम मैच को जीतना चाहते हैं। हमने जमशेदपुर एफसी के खिलाफ पहला मैच जीता और हम अपने आखिरी मैच में केरल के खिलाफ जीत हासिल करना चाहेंगे।”

लाजलो ने कहा, “ मैं कई टीमों में रहा हूं और यह मेरा तीसरा है लेकिन यहां हमारे बीच बहुत सामंजस्य था। हमारे पास बुरे क्षण और बुरे खेल थे और जो खिलाड़ी नाराज थे, वे सामने आए और उन्होंने दूसरों को प्रोत्साहित किया। ”

admin