मजदूर और छात्रों के लिए दूसरे राज्य से अपने गली तक का सफर हुआ आसान

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। 

देश में जारी कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार ने लॉकडाउन में फंसे लोगों को बड़ी राहत दी है। लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूर, छात्र, तीर्थयात्री और सैलानी अब अपने राज्य जा सकेंगे।

नई गाइडलाइन के मुताबिक सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अपने नोडल अधिकारी नियुक्त करने होंगे। फंसे हुए लोगों को भेजने और लाने के लिए एक राज्य से दूसरे राज्य को आपस में बात करनी होगी। इसके अलावा एक राज्य से दूसरे राज्य में जा रहे लोगों को स्वास्थ्य जांच के बाद ही भेजा जाएगा।

केंद्र सरकार के अनुमति के बाद अन्य राज्यों में फंसे लोगों को राहत तो मिल गई, लेकिन सवाल यह है कि लाखों लोगों को लाया कैसे जाएगा। बात जब बिहार की होगी तो सिर्फ इसी राज्य के लाखों लोग दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं। जाहिर है उन्हें वापस लाने के लिए हजारों बस की जरूरत होगी।

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने कहा कि केंद्र सरकार ने राज्य के बाहर फंसे लोगों को वापस लाने की अनुमति देकर लाखों लोगों को राहत दी है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के दिशा-निर्देश के अनुसार बिहार का स्वास्थ्य मंत्रालय पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों में फंसे लोगों के बिहार पहुंचने पर उनके जांच की भी पूरी व्यवस्था भी कर ली गई है।

गृह मंत्रालय के अनुसार, सफर करने वालों की स्क्रीनिंग की जाएगी, जिनमें कोई लक्षण नहीं दिखाई देता, उन्हें जाने की इजाजत दी जाएगी।

राष्ट्रीय जनता दल के मुखिया लालू प्रसाद यादव ने बिहार के बाहर फंसे मजदूरों के मुद्दे पर ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा, कबीर के इस दोहे में हमारे मजदूर भाईयों की भावना और बिहार सरकार के लिए संदेश छिपा है। ‘माटी कहे कुम्हार से, तु क्या रोंदे मोय, एक दिन ऐसा आएगा, मैं रौदूंगी तोय’। बिहार के बेटे-बेटियों के साथ जो रवैया ये ज़ालिम सरकार अपना रही है वही रवैया ये करोड़ों दुखियारे इस सरकार के खिलाफ अपनाएंगे।

वहीं देशभर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। देश में पिछले 24 घंटों में 1813 मामले सामने आए और 71 मौत दर्ज हुई। इसके बाद देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 31,787 हो गई है, जिसमें 22,982 सक्रिय हैं, 7,796 लोग स्वस्थ हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और 1,008 लोगों की मौत हो चुकी है।

admin