समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष जया जेटली रक्षा सौदे से जुड़े 19 साल पुराने भ्रष्टाचार मामले में गिरफ़्तार

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

सीबीआई की विशेष अदालत ने गुरुवार को समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष को रक्षा सौदे से जुड़े मामले में 4 साल की सजा सुनाई।

जया के दो करीबियों को यही सजा सुनाई गई है। इन सभी को बुधवार को दोषी पाया गया था। मामला साल 2000-2001 की एक डिफेंस डील से जुड़ा है।

रक्षा सौदे में भ्रष्टाचार के मामले में चार साल सजा सुनाई है

दरअसल दिल्ली की एक अदालत ने समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष जया जटेली को कथित रक्षा सौदे में भ्रष्टाचार के मामले में चार साल कैद की सजा सुनाई है। दोषियों के वकील ने ये जानकारी दी। जया जेटली के पूर्व पार्टी सहयोगी गोपाल पचेरवाल, मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) एस. पी. मुरगई को भी चार साल कैद की सजा सुनाई गई है।

इससे पहले सीबीआई ने दोषियों को अधिकतम सात साल जेल की सजा देने की बुधवार को मांग की थी जबकि सीबीआई के विशेष न्यायाधीश वीरेन्द्र भट ने गुरुवार तक के लिए अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

दोषियों को अधिक से अधिक सजा देनी चाहिए

अदालत की कार्रवाई बंद कमरे में हुई। तीनों दोषियों पर एक-एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया और उन्हें आज शाम पांच बजे तक आत्मसमर्पण करने का निर्देश दिया गया है।

विशेष सीबीआई जज वीरेंदर भट के समक्ष सीबीआई की ओर से पेश वकील ने कोर्ट से कहा था कि दोषियों को अधिक से अधिक सजा देनी चाहिए, क्योंकि उनके द्वारा किए गए अपराध प्रकृति भी बेहद गंभीर है। सीबीआई ने कहा था कि तहलका न्यूज पोर्टल के स्टिंग ऑपरेशन के बाद इस मामले में आरोपियों की भूमिका खुले तौर पर सबके सामने आई।

पत्रकार से अभियुक्तों ने रिश्वत स्वीकार की थी

यह मामला जनवरी 2001 में न्यूज पोर्टल तहलका पर प्रसारित ‘ऑपरेशन वेस्टएंड’ से सामने आया था। यह एक स्टिंग ऑपरेशन था। आरोप था कि सेना को थर्मल इमेजर की आपूर्ति करने के लिए संदिग्ध कंपनी के प्रतिनिधि के रूप में आए पत्रकार से अभियुक्तों ने रिश्वत स्वीकार की थी।

जया जेटली समता पार्टी की अध्यक्ष रह चुकी हैं। उन्हें पूर्व केंद्रीय मंत्री जॉर्ज फर्नांडीज का करीबी माना जाता है। इस मामले के सामने आने के बाद जॉर्ज को अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में रक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

admin