केरल टूरिज़्म ने मकर संक्रांति पर ‘बीफ उलरतियातु’ की फ़ोटो शेयर की तो हुआ बवाल

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। अभी तक देश में पोशाक से धर्म की पहचान होने के बयान पर बवाल था। अब खान-पान पर भी धर्म की राजनीति होनी शुरू हो गयी है। ‘केरल टूरिज़्म’ भी इस राजनीति के घेरे में आ गयी है।

केरल टूरिज्म के एक ट्वीट को लेकर फिर विवाद हो गया है। इस बार आधिकारिक ट्विटर हैंडल से बीफ बनाने की रेसिपी शेयर की गई है। यह रेसिपी मकर संक्रांति के दिन शेयर की गई। इसको लेकर सोशल मीडिया में विवाद छिड़ गया है। लोग केरल टूरिज्म पर निशाना साध रहे हैं। साथ ही तमाम नसीहत भी दी जा रही हैं।

ट्विटर पर वीएचपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा, “क्या यह ट्वीट पर्यटन को बढ़ावा देने या गोमांस को बढ़ावा देने के लिए है? क्या यह करोड़ों गाय उपासकों की भावनाओं को आहत नहीं कर रहा है? क्या यह ट्वीट शंकराचार्य की पवित्र भूमि से किया गया है?

कुछ लोगों ने धार्मिक भावनाएं आहत होने की बात कही। तो कुछ ने तंज कसते हुए पोर्क की रेसिपी भी शेयर करने की नसीहत दी। पेशे से वकील प्रशान्त पटेल उमराव ने केरल टूरिज्म के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, ‘पोर्क को प्रोमोट करने की भी कोशिश करें। आपको अपने मेडिसीन के टेस्ट का पता चलेगा। शर्मनाक!’

इस ट्वीट के बाद बीजेपी और वीएचपी के नेता भड़क उठे हैं। इस पर एक यूज़र ने जवाब देते हुए लिखा आपका दिमाग़ तो ठीक है पोंगल और संक्राति के दिन हम गाय-बैल की पूजा करते हैं और मानव संस्कृति में उनके योगदान के लिए धन्यवाद देते हैं। ये गाय की पूजा करने वालों के लिए अपमान है।

वहीं, एक लेखक और हिंदू कार्यकर्ता राहुल ईश्वर ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘केरल टूरिज्म, ईद के दिन पोर्क और मकर संक्रांति के दिन बीफ को प्रोमट करना छोड़ें। कृप्या सभी धर्मों की सांस्कृतिक आस्था को लेकर संवेदनशील बनें। किसी की मान्यता को आहत किए बिना हमारे खान-पान को प्रदर्शित करें।’

केरल के पर्यटन विभाग के बीफ वाले ट्वीट से विवाद होने के बाद माकपा नीत एलडीएफ सरकार ने शुक्रवार को सफ़ाई दी कि उनका मकसद किसी की धार्मिक भावनाओं को आहत करना नहीं है। पर्यटन मंत्री कड़कमपल्ली सुरेंद्रन ने केरल के व्यंजन ‘बीफ उलरतियातु’ पर पर्यटन विभाग के ट्वीट की आलोचना करने वालों पर इसे सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश का आरोप लगाया और कहा कि दक्षिण राज्य में खानपान का धर्म से कोई लेना-देना नहीं है।

admin