दिल्ली मेट्रो : जानें 26 जनवरी को कौन कौन से गेट कब तक रहेंगे बंद

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गणतंत्र दिवस (Republic Day) समारोह को लेकर एक ओर जहां पूरी दिल्ली एक अभेद्य किले के रूप में तब्दील हो चुकी है तो दूसरी ओर मेट्रो (Delhi Metro) ने भी इसकी पूरी तैयारी कर ली है। सुरक्षा कारणों के चलते 25 और 26 जनवरी कोसभी मेट्रो पार्किंग स्थल सुबह 6 बजे से बंद रहेंगे। इस बात की जानकारी दिल्ली मेट्रो ने दी है।

मेट्रो से संबंधित जानकारी

वहीं 26 जनवरी को सेंट्रल सचिवालय स्टेशन का उपयोग केवल यात्रियों के इंटरचेंज लाइन 2 और लाइन 6 के लिए किया जाएगा।
26 जनवरी को सुबह 11:00 बजे से दोपहर 12 बजे तक पटेल चौक और लोक कल्याण मार्ग मेट्रो स्टेशन पर प्रवेश और निकास बंद रहेंगे।
हुडा सिटी सेंटर-समयपुर बादली मेट्रो लाइन पर सेवाओं को 26 जनवरी को आंशिक रूप से रेग्यूलेट किया जाएगा।
केंद्रीय सचिवालय और उद्योग भवन मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश और निकास गणतंत्र दिवस पर दोपहर 12 बजे तक बंद रहेंगे।
26 जनवरी को सुबह 4:00 बजे से नेताजी सुभाष मार्ग होगा बंद
दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने अपील की है कि अपने गंतव्य के लिए वैकल्पिक मार्ग चुने। नई दिल्ली और पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन जाने वाले रास्तों पर कोई पाबंदी नहीं है। इसके अलावा 26 जनवरी को सुबह 4:00 बजे से नेताजी सुभाष मार्ग को भी बंद कर दिया जाएगा। 23 जनवरी को केंद्रीय सचिवालय और उद्योग भवन मेट्रो स्टेशन को सुबह 5:00 से दोपहर 12:00 तक बोर्डिंग और डी बोर्डिंग के लिए बंद रखे गए थे।

चप्पे-चप्पे पर होगी पुलिस की नजर
72वें गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने परेड के दौरान कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए और सीमाओं पर प्रस्तावित ट्रैक्टर मार्च के दौरान शहर और उसके आसपास पांच लेयर का सुरक्षा कवच खड़ा किया है।

Republic Day से पहले प्रदर्शन स्थलों पर 40,000 से अधिक सुरक्षाकर्मियों की तैनाती

राजपथ पर 6,000 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात
डीसीपी (नई दिल्ली) और पीआरओ ईश सिंघल ने कहा कि परेड और पुरस्कार समारोह के लिए राजपथ पर 6,000 से अधिक पुलिस कर्मियों को तैनात किया जाएगा। पुलिस के सूत्रों ने कहा कि 40,000 से अधिक पुलिस, ITBP और CRPF के जवानों को सिंघू, टिकरी और गाजीपुर सीमा पर तैनात किया जाएगा। बता दें कि कोरोना प्रोटोकॉल के बाद, केवल 25,000 लोगों को राजपथ पर परेड देखने की अनुमति दी जाएगी, क्योंकि हर साल परेड में शामिल होने वाले एक लाख दर्शकों के विपरीत। आम जनता के लिए टिकट इस साल 4,500 तक सीमित कर दिए गए हैं।

admin