भोपाल में पनाह देने के बदले कश्मीरियों से मिली बड़ी रकम!

प्रजातंत्र ब्यूरो | भोपाल

कश्मीर से भोपाल लाया गया बच्चियों का शिकारी, प्रॉपट में पाक के संगठनों का पैसा लगा होने की भी होगी जांच

भोापाल में लंबे समय से नाबालिग बच्चियों को अपनी हवस का शिकार बनाने वाले प्यारे मियां को पुलिस गुरुवार की शाम श्रीनगर से राजधानी ले आई। उसके कश्मीर और अंडरवर्ल्ड कनेक्शन की शुरुआती जांच में यह बात सामने आई है कि वह कश्मीरियों का बहुत बड़ा हमदर्द है। उसके दामाद ताहिर के यहां भोपाल में साल भर कश्मीरी रुकते रहे हैं। पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि प्यारे मियां ने पिछले कुछ सालों में जिस तेज़ी से पैसा बनाया, ये पैसा अंडरवर्ल्ड और कश्मीर के अलगाववादियों को शरण देने के बदले मिली रकम तो नहीं है?

जांच में यह सामने आया है कि प्यारे मियां का दामाद ताहिर कश्मीरियों से काफी मेलजोल रखता था। भोपाल आने वाले कश्मीरी छात्र और यहां व्यापार के लिए आने वाले कश्मीरी व्यापारी आमतौर पर ताहिर के बुधवारा हाथी खाना स्थित मकान पर ही रुकते थे। यहां प्यारे मियां भी नियमित रूप से आता-जाता था। 12 जुलाई को सामने आए इस मामले में मुख्य आरोपी प्यारे मियां पर प्रकरण दर्ज होते ही वह कश्मीर भाग गया था। बुधवार को भोपाल पुलिस की निशानदेही पर श्रीनगर पुलिस ने उसे हिरासत में लिया था और बाद में भोपाल पुलिस को सौंप दिया था। भोपाल पुलिस, श्रीनगर से दिल्ली और दिल्ली से भोपाल फ्लाइट के जरिये प्यारे मियां को गुरुवार शाम भोपाल ले आई।

भोपाल लाकर पहले उसे नये पुलिस कंट्रोल रूम ले जाया गया। बाद में प्यारे मियां का मेडिकल टेस्ट भी कराया गया। एडीजी उपेंद्र जैन, डीआईजी इरशाद वली और एसपी साउथ साईं कृष्णा ने देर रात तक प्यारे मियां से उसके कश्मीर और अंडरवर्ल्ड के संपर्कों के अलावा बेनामी संपत्ति और उसके घरों के बारे में पूछताछ की। माना जा रहा है कि वह भोपाल से लेकर इंदौर तक अय्याशी में डूबे कई बड़े नामों का खुलासा कर सकता है।

बेनामी संपत्ति पर भी पूछताछ

एसपी भोपाल साउथ साईं कृष्णा ने बताया कि प्यारे मियां को शुक्रवार की सुबह अदालत ने पेश किया जाएगा। पुलिस उसका रिमांड मांगेगी। अभी प्रकरण में प्यारे मियां से इस सनसनीखेज मामले के अलावा बेनामी संपत्ति और अन्य मामलों में पूछताछ की जा रही है।

आयकर और ईडी की भी नज़र

प्यारे मियां ने पिछले कुछ सालों में जिस तेजी से भोपाल, इंदौर के अलावा मुंबई में संपत्ति बनाई थी और हर साल दर्जनों विदेश यात्रा की थी, उसको लेकर इनकम टैक्स और प्रवर्तन निदेशालय की नजर भी उस पर है। दोनों विभागों ने उसकी संपत्तियों और उसके संपर्कों की जानकारी जुटानी शुरू कर दी है।

कश्मीरी छात्रों में रही हमेशा दिलचस्पी

लॉकडाउन के दौरान भोपाल में करीब 300 से ज्यादा कश्मीरी छात्रों के खाने का इंतजाम प्यारे मियां ने किया था और जब वे कश्मीर जा रहे था, तब भी उनके लिए किट, रास्ते के खाने-पीने आदि का इंतजाम प्यारे मियां और उसके करीबियों ने किया था।

 

admin