एलजी पॉलिमर्स पर 50 करोड़ रुपए का जुर्माना

नई दिल्ली

गैस रिसाव मामले में एनजीटी की कार्रवाई

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने आंध्र प्रदेश के विशाखापट्‌टनम में गैस रिसाव की घटना के सिलसिले में एलजी पॉलिमर्स इंडिया पर 50 करोड़ रुपए का अंतरिम जुर्माना लगाया है और केन्द्र तथा अन्य से जवाब मांगा है। अधिकरण ने कहा, ‘‘ नियमों और अन्य वैधानिक प्रावधानों का पालन करने में विफलता दिखाई देती है।’’

न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने गैस लीक मामले की जांच के लिए पांच सदस्यीय एक समिति गठित की और उसे 18 मई से पहले रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा है।

इस घटना में 11 लोगों की मौत हुई है जबकि 1,000 लोग इससे प्रभावित हुए हैं। पीठ ने कहा, ‘‘प्रथम दृष्टया सामने आई जानकारी के अनुसार इस घटना में लोगों की जान गई, जन स्वास्थ्य और पर्यावरण को नुकसान हुआ है, हम एलजी पॉलिमर्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को 50 करोड़ रुपए की प्रारंभिक राशि जमा कराने के निर्देश देते हैं। यह राशि कंपनी के वित्तीय मूल्य और उससे हुई क्षति की सीमा के संबंध में तय की जा रही है।’’ अधिकरण ने पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, एल जी पॉलिमर्स इंडिया, आंध्र प्रदेश राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, विशाखापत्तनम जिला मजिस्ट्रेट को नोटिस जारी किये और उनसे मामले की अगली सुनवाई 18 मई से पहले जवाब मांगे।

दूसरी बार गैस रिसाव नहीं

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के प्रमुख एसएन प्रधान ने शुक्रवार को कहा कि विशाखापट्‌टनम में कोई दूसरा रिसाव नहीं हुआ है और मौके पर मौजूद विशेषज्ञ रिसाव की गु्ंजाइश पूरी तरह खत्म करने के लिए काम कर रहे हैं। प्रधान ने इस बात पर भी जोर दिया कि जो धुंआ उठता हुआ दिख रहा था वह एक “तकनीकी” मुद्दा था और इससे घबराने की जरूरत नहीं है।

admin