भारत में कोरोना वायरस का सेंट्रल पॉइंट बन गया है महाराष्ट्र?

मुंबई

संकट में आर्थिक राजधानी

राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 89 पहुंच गई है, जिसमें से 2 लोगों की मौत हो चुकी है। आखिर महराष्ट्र में किन वजहों से कोरोना वायरस से संक्रमण के मामलों में बढ़ोत्तरी हो रही है। इसके पीछे कई कारण हैं। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई 26 हजार 357 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर के साथ दुनिया का दूसरा सबसे अधिक जनसंख्या वाला शहर है। यह आंकड़ा दिल्ली जैसे दूसरे मेट्रो शहर से कहीं अधिक है, जहां की आबादी 11 हजार 320 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर है।

लोकल ट्रेन… 3 गुना अधिक पैसेंजर

यह दुनिया का सबसे ज्यादा व्यस्त उपनगरीय रेलवे नेटवर्क है। मुंबई उपनगरीय इलाके में चलने वाली लोकल ट्रेन में प्रतिदिन 75 लाख से अधिक पैसेंजर सफर करते हैं, जिसका मतलब यह है कि ट्रेनें अपनी क्षमता से 3 गुना अधिक भरी रहती हैं। वहीं जापान में टोक्यो मेट्रो अपनी क्षमता से दोगुना सवारियों को ढोता है। 2019 में मुंबई में 1.3 करोड़ इंटरनेशनल पैसेंजर्स आए, जबकि पुणे में यह आंकड़ा 1.2 करोड़ के आस-पास रहा। वहीं शिरडी में एक महीने में 50 हजार यात्री, नागपुर में 10 लाख अंतरराष्ट्रीय पैसेंजर्स की क्षमता है, जबकि औरंगाबाद प्रति घंटे 150 इंटरनैशनल पैसेंजर्स को हैंडल कर सकता है। वहीं दिल्ली में यह आंकड़ा 2 करोड़ अंतरराष्ट्रीय पैसेंजर्स सालाना का है। इसके साथ ही मुंबई में समुद्र पोर्ट भी है।

विदेशियों का फेवरेट है मुंबई, पुणे

मुंबई इसके साथ ही भारत में आकर काम करने वाले विदेशियों की भी पसंदीदा जगह है। मुख्य वजह ग्लोबल औसत से अधिक पैसे का मिलना है। अगर तुलना करें तो मुंबई में काम कर रहा विदेशी 217165 डॉलर की कमाई कर लेगा, जबकि वैश्विक औसत 99,903 डॉलर है।

5 इंटरनेशनल एयरपोर्ट्स

महाराष्ट्र में विदेश से आने के लिए कई सारे अंतर्राष्ट्रीय गेटवे हैं। यहां कुल पांच इंटरनेशनल एयरपोर्ट्स हैं, जिनमें मुंबई, पुणे, नागपुर, शिरडी और औरंगबाद एयरपोर्ट्स शामिल हैं।

admin