एमएच 370 विमान को पायलट ने जानबूझकर किया था गायब

कैनबरा

मलयेशिया के साल 2014 में गायब हुए विमान एमएच 370 को लेकर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी एबॉट ने दावा किया है कि मलयेशिया के वरिष्ठ अधिकारियों का मानना है कि उस विमान को उसके पायलट ने जानबूझकर गायब किया। उन्होंने कहा कि पायलट आत्मघाती था, जिसने फ्लाइट में सवार सभी लोगों की जान ले ली। हालांकि, उन्होंने अपने इस दावे के लिए कोई सबूत पेश नहीं किए हैं।

गौरतलब हो कि मलयेशिया की एक एयरलाइन एमएच 370 आठ मार्च, 2014 को उड़ान भरने के बाद गायब हो गई। इस विमान में 239 यात्री सवार थे, जिनमें से अधिकतर चीनी यात्री थे, जो राजधानी कुआलालंपुर से बीजिंग जा रहे थे। विमान के गायब होने के बाद इसकी जमकर खोजबीन की गई। खोजबीन का अभियान जनवरी 2017 तक चला, लेकिन इसके बाद भी विमान का कोई सुराग नहीं मिल सका। यह विमानन उद्योग का अब तक सबसे लंबा खोजबीन अभियान था। स्काई न्यूज के एक डॉक्यूमेंट्री में पूर्व पीएम टोनी एबॉट ने कहा कि विमान के गायब होने के महीने भर के भीतर ही मलयेशिया सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों को बता दिया गया था कि विमान को उसके पायलट ने जानबूझकर डुबोया था। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक पायलट ने आत्महत्या की और साथ ही विमान में सवार लोगों के मौत की वजह बना। एबॉट ने अपने दावे को लेकर कोई सबूत पेश नहीं किया है, साथ ही उन्होंने किसी भी वरिष्ठ अधिकारी का नाम लिया है। जिस दौरान विमान गायब हुआ था उस समय नाजिब रजाक मलयेशिया के प्रधानमंत्री थे।

हिंद महासागर पहुंचते ही गायब हो गया था विमान

मलयेशिया के सिविल एविएशन रेगुलेटर के पूर्व अध्यक्ष अजहरुद्दीन अब्दुल रहमान ने टॉनी एबॉट के दावे को लेकर कहा कि उनके पास अपने दावे को साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं है। यह सिर्फ एक बयान है, जिसपर ध्यान न ही दिया जाए तो बेहतर होगा। आठ मार्च, 2014 को कुआलांलपुर से बीजिंग जाते वक्त एमएच 370 विमान अपने रास्ते से गायब हो गया। उस दौरान विमान में 239 सवार थे। सैटेलाइट आंकड़ों के मुताबिक, विमान के मलयेशिया को पार करके हिंद महासागर पहुंचते ही वह रास्ते से गायब हो गया। इसके बाद विमान को खोजने के लिए खोज अभियान चलाया गया है, लेकिन इसके बाद भी विमान का मलबा बरामद नहीं हुआ। आधिकारिक जांच के बाद भी विमान के गायब होने को लेकर कोई तकनीकी जानकारी नहीं दी गई और स्पष्ट रूप से विमान के पायलट जाहरी अहमद शाह को इस घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया गया। एमएच 370 को लेकर मलेशियाई सरकार की 2018 की एक रिपोर्ट में कहा गया कि विमान के सिस्टम में संभवतः हेरफेर किया गया था।

admin