संक्रमण की चपेट में 100 से अधिक डॉक्टर्स, अब तक चार की मौत

नई दिल्ली

किसी भी युद्ध का इतिहास रहा है कि जो आगे बढ़कर लड़ा है उसे अन्य के मुकाबले ज्यादा खतरा रहा है। कोरोना से जारी लड़ाई में भी यही हो रहा है। कोरोना वॉरिअर्स के तौर पर काम करने वाले दुनियाभर के पुलिसकर्मी और स्वास्थ्यकर्मी भी कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं। भारत की बात करें तो केवल अहमदाबाद में 100 से अधिक डॉक्टर्स संक्रमण की चपेट में हैं और चार डॉक्टर्स की जान जा चुकी है। दरअसल सरकार पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं सरकार के पास पर्याप्त इंतजाम नहीं है सरकार संक्रमितों की पहचान करने में नाकाम साबित हुई है। यह कहना है अहमदाबाद नर्सिंग होम एसोचैम कार्यकारी समिति के सदस्य और धवानी अस्पताल के सीईओ डॉक्टर वसंत पटेल का।

बता दें कि अहमदाबाद देश का दूसरा सबसे ज्यादा संक्रमण वाला शहर है। अभी तक 200 से अधिक डॉक्टर्स संक्रमितों का इलाज करते हुए संक्रमित हुए हैं। संक्रमितों में फिजिशियन, इंटेंसिविस्ट (गंभीर रूप से बीमार रोगियों के इलाज में माहिर है), ऑर्थो सर्जन, न्यूरो-सर्जन, रेडियोलॉजिस्ट, स्त्री रोग विशेषज्ञ और सामान्य सर्जन शामिल हैं। अहमदाबाद मेडिकल एसोसिएशन (एएमए) के अधिकारियों के मुताबिक डॉक्टर आदित्य उपाध्याय, डॉक्टर कमलेश टेलर, डॉक्टर रमेश पटेल और डॉक्टर एमए अंसारी ने कोरोना से लड़ते हुए अपनी जान गंवा दी है।

अस्पताल-नर्स में भी संक्रमण का डर- वहीं, हाल के दिनों में बीजे मेडिकल कॉलेज के पूर्व डीन डॉक्टर भरत शाह कोरोना से संक्रमित हुए हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता और डॉक्टर सेल के पूर्व प्रभारी डॉक्टर अनिल पटेल की भी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके अलावा बुधवार शहर में अन्य 40 डॉक्टर्स की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। कोविद-19 के लिए स्पेशल सिविल और एसवीपी अस्पताल और जीसीआरआई कोविद विंग में 60-70 डॉक्टर्स की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक सिविल के 18, जीसीआरआई के 36 और एसवीपी के 11 डॉक्टर्स का परीक्षण हुआ है। इसके अलावा अस्पताल और नर्स में भी संक्रमण का डर है।

40 से भी अधिक संक्रमित निजी डॉक्टर्स की संख्या

अहमदाबाद मेडिकल एसोसिएशन (एएमए) की अध्यक्ष डॉक्टर मोना देसाई ने कहा कि कोविद -19 से संक्रमित होने वाले निजी डॉक्टर्स की संख्या 40 से ऊपर भी जा सकती है। हम सभी के नाम और विवरण जुटाने की तैयारी कर रहे हैं। इनमें से कई डॉक्टर्स के नाम सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे हैं। एसोसिएशन का कहना है कि पर्याप्त सुरक्षा जैसे- मास्क और पीपीई किट इस्तेमाल करने के बाद भी डॉक्टर्स संक्रमित हुए हैं।

कम परीक्षण को लेकर डॉक्टर्स में नाराजगी

अहमदाबाद नर्सिंग होम एसोचैम कार्यकारी समिति के सदस्य और धवानी अस्पताल के सीईओ डॉक्टर वसंत पटेल ने राज्य में बढ़ते संक्रमण को लेकर सरकार को निशाने पर लिया है। पटेल का कहना है कि राज्य सरकार के पास कोरोना से लड़ने को लेकर कोई स्पष्ट पॉलिसी नहीं है। सरकार संक्रमितों की पहचान करने में नाकाम है। उन्होंने दावा किया कि उन्होंने एक मरीज की डिलिवरी के लिए आवेदन दिया था लेकिन 24 घंटे बाद भी उन्हें मरीज का कोरोना परीक्षण करने की अनुमति नहीं मिली। उन्होंने कहा कि आईसीएमआर के मुताबिक किसी भी तरह की सर्जरी से पहले मरीज का कोरोना परीक्षण अनिवार्य है लेकिन राज्य सरकार परीक्षण को हल्के में ले रही है।

admin