11 फरवरी को है मौनी अमावस्‍या, करें ये उपाय, सुख की होगी प्राप्ति

11 फरवरी  यानि कल है मौनी अमवस्‍या (Mauni Amavasya) इस दिन पवित्र नदियों में स्नान व दान आदि का पर्व, किया जाता है । कहा जाता है कि अमावस्या के दिन शनिदेव का जन्म हुआ था। जिनकी कुंडली में शनि की साढ़ेसाती, ढैया, पितृदोष, कालसर्प दोष है, वह भी इस दिन इनकी पूजा करके सुख प्राप्त कर सकते हैं। धर्मशास्त्रों में मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya) का खास स्थान है। इसे माघ अमावस्या (Magha Amavasya) भी कहते हैं। बार मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya) 11 फरवरी को मनाई जाएगी। मान्यता है कि देवतागण इस पवित्र दिन संगम में निवास करते हैं, इसलिए मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya) को गंगा आदि पवित्र नदियों में स्नान का खास महत्व है ।

 जिस वर्ष गुरु कुंभ राशि में प्रवेश करते हैं, उसके दो-तीन माह पूर्व से कुंभ मेला का महापर्व हरिद्वार में प्रारंभ हो जाता है। इस बार सूर्य भी माघ माह में मकर राशि गत हैं, अत: इस बार की मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya) खास होगी। मान्यता है की मौनी अमवास्या के दिन मौन रहने वाले व्यक्ति को मुनि पद की प्राप्ति होती है। इस दिन गंगा स्नान के बाद मौन व्रत का संकल्प लें और उसके बाद भगवान विष्णु का पीले फूल, केसर चंदन, घी का दीपक और प्रसाद के साथ पूजन करें।

मौन रहने का महत्वः
मौनी अमावस्या (Mauni Amavasya) के दिन मौन धारण करने का भी महत्व है। मौन धारण करने के बाद व्रत समापन करने से मुनि पद की प्राप्ति होती है। इस दिन मौन व्रत रखने का मतलब मन को संयमित रखने से है। इससे आपका आत्मबल, ज्ञान, ध्यान बढ़ता है, पवित्र विचार आते हैं, पुण्य का अर्जन होता है।

ऐसे कर सकते हैं व्रत स्नानः 
सुबह नदी, सरोवर या पवित्र कुंड में स्नान करें और सूर्य देव को अर्घ्य दें। व्रत रखकर जहां तक संभव हो मौन रहें, गरीब व भूखे व्यक्ति को भोजन जरूर कराएं। वस्त्र, अनाज, आंवला, तिल, पलंग, कंबल, घी और गोशाला में गाय के लिए भोजन दान करें। हर अमावस्या की तरह मौनी अमावस्या पर भी पितरों को याद करें। इस दिन पितरों का तर्पण करने से उन्हें मोक्ष भी मिलता और वह प्रसन्न होकर आशीर्वाद देते हैं, जिससे जीवन में सुख समृद्धि आती है।

नोट- उपरोक्‍त दी गई जानकारी व सूचना सामान्‍य उद्देश्‍य के लिए दी गई है। हम इसकी सत्‍यता की जांच का दावा नही करतें हैं यह जानकारी विभिन्‍न माध्‍यमों जैसे ज्‍योतिषियों, धर्मग्रंथों, पंचाग आदि से ली गई है । इस उपयोग करने वाले की स्‍वयं की जिम्‍मेंदारी होगी ।

admin