मप्र बजट सत्र: वित्त मंत्री देवड़ा मंगलवार को ऑनलाइन पेश करेंगे पेपेरलैस बजट

भोपाल । मध्यप्रदेश विधानसभा में मंगलवार, 02 मार्च को राज्य सरकार का वित्त वर्ष 2021-22 का वार्षिक बजट पेश होगा। प्रदेश के वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा सदन में ऑनलाइन टैबलेट के माध्यम से पेपरलैस बजट पेश करेंगे। इस साल कोरोना के कारण उपजी आर्थिक चुनौतियों के बीच यह बजट दो लाख 40 हजार करोड़ रुपये से अधिक का होगा। नागरिकों को बजट से काफी उम्मीदे हैं और वित्तीय चुनौतियों के बीच सभी की निगाहें बजट के प्रावधानों पर टिकी हुयी हैं।

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में पिछले 2018 के चुनाव में कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस की गठबंधन की सरकार बनी थी, लेकिन पिछले साल 2020 में मार्च के महीने में यहां बड़ा राजनीतिक फेरबदल हुआ और कमलनाथ सरकार गिर गई थी। इसके बाद मार्च के अंतिम दिनों में शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 23 मार्च 2020 को चौथी बार राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में कमान संभाली, लेकिन इसी दौर में कोरोना और इसके कारण उपजी चुनौतियां सामने आ गईं। इन चुनौतियों से निपटने के लिए राज्य सरकार पिछले 11 माह में कम से कम 23 हजार करोड़ रुपयों का ऋण ले चुकी है। ऐसे में सरकार बजट में आम लोगों को क्या सौगात देती है, यह देखने वाली बात होगी।

वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा बजट को अंतिम रूप देने में जुटे हैं और विधानसभा में बजट भाषण की तैयारियां कर रहे हैं। मध्य प्रदेश सरकार के बजट में आम जनता को राहत मिलने की उम्मीद कम है। वैसे सरकार भले ही नया टैक्स नहीं लगाने पर विचार कर रही हो, लेकिन पेट्रोल और डीजल पर वैट भी घटने के संकेत मिल रहे हैं। इन सबके बीच चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग दावा कर रहे हैं कि यह आम लोगों का बजट है और कल्याणकारी होगा।

इस बार मध्‍य प्रदेश का बजट 2 लाख 40 हजार करोड़ रुपये तक का हो सकता है। यह पिछले साल की तुलना में सात से दस फीसदी तक बढ़ने वाला है। बजट में गैस पीड़ित विधवा महिला की पेंशन फिर शुरू करने का प्रावधान होगा। इसके अलावा बजट में नर्मदा एक्सप्रेस-वे, अटल प्रोग्रेस वे के रास्ते में इकोनॉमिक कॉरिडोर और इंडस्ट्रियल निवेश को बढ़ाने के लिए नए प्रावधानों किए जा रहे हैं। बजट में सरकार का फोकस प्रदेश के साढ़े सात लाख कर्मचारियों और चार लाख पेंशनर्स पर रहेगा। वहीं, 7.50 लाख कर्मचारियों को दो वेतन वृद्धि एक साथ मिलेने की उम्मीद है। इलके अलावा 2020 और 2021 की वेतन वृद्धि देने की घोषणा सरकार कर सकती है। बजट में मप्र में 9 नए मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा हो सकती है। इनमें छह केंद्र सरकार की मदद से और तीन मप्र खोलेगा। मेडिकल कॉलेज शिवपुरी, राजगढ़, मंडला, सिंगरौली, नीमच, मंदसौर, छतरपुर, दमोह और सिवनी में खुल सकते है।

माना जा रहा है कि बजट में स्वास्थ्य के अलावा ढांचागत सुविधाओं के विस्तार और विकास के अलावा कृषि, ग्रामीण क्षेत्र, शिक्षा और शहरी विकास से जुड़ी योजनाओं पर जोर दिया जाएगा। आम लोगों को उम्मीद है कि सरकार इस बार बजट में पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले करों में थोड़ी राहत दे सकती है, लेकिन इसको लेकर स्थिति मंगलवार को ही साफ हो पाएगी।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने बजट को कल्याणकारी बताया है। उन्होंने कहा कि यह बजट विकास करने वाला और जन कल्याणकारी होगा। एजेंसी/हिस

admin