मुश्किल से रोज़ाना 300 रुपये कमाने वाले मज़दूर को 1.5 करोड़ रुपये भुगतान करने का भेजा नोटिस

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। धोखाधड़ी के तमाम मामले अक्सर सुनने को मिलते हैं। अभी नेटफ़्लिक्स पर भी धोखाधड़ी की घटनाओं से जागरूक करने के लिए वेब सीरीज़ रिलीज़ हुई है जिसका नाम ‘जामताड़ा’ है इसमें बताया गया है कैसे फेक कॉल्स कर के पैसे लुटे जाते हैं।

ये मामले नए नहीं हैं लेकिन फ़िर भी इस चक्रव्यू में लोग फंस जाते हैं। ऐसी ही धोखाधड़ी का एक मामला मुंबई से आ रही है।

महाराष्ट्र के कल्याण से आर्थिक धोखाधड़ी का एक अजीब मामला सामने आया है। यहां रहने वाले दिहाड़ी मजदूर भाऊसाहेब अहीर को आईटी डिपार्टमेंट से नोटिस मिला है, जिसमें उसे आयकर के तौर पर डेढ़ करोड़ रुपये का भुगतान करने को कहा गया है।

नोटिस के मुताबिक वित्तीय वर्ष 2017-2018 के लिए अहीर को 1,05,82,564 रुपये का भुगतान करना होगा। नोटिस में ये भी जानकारी दी गयी है कि भाऊसाहेब अहीर के खाते में अन्य जमा राशि के तौर 21 लाख और 56 लाख 81 हजार रुपये की राशि है।

दिहाड़ी मजदूर हैं भाऊसाहेब अहीर ने इस पर क्या कहा

नोटिस के संबंध में बात करते हुए भाऊसाहेब अहीर ने कहा कि मुझे आईटी का नोटिस मिला है जिसमें मुझे डेढ़ करोड़ रूपये का भुगतान करने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि मैं एक साधारण मजदूर हूं जिसे सप्ताह में मुश्किल से एक या दो दिन ही काम मिल पाता है।

मैं बड़ी मुश्किल से अपनी अजीविका चलाने भर का कमा लेता हूं। मैंने अपनी अब तक की जिंदगी में कभी एक साथ 1 लाख रुपये नहीं देखे, तो मैं डेढ़ करोड़ रुपये का भुगतान कैसे कर पाऊंगा। भाऊसाहेब ने कहा कि यह धोखाधड़ी है। दोषियों की पहचान कर कार्रवाई होनी चाहिए।

मध्य प्रदेश में भी सामने आया ऐसा मामला

हालांकि ये इस तरह का पहला मामला नहीं है। बीते जनवरी को भी मध्य प्रदेश के भिंड में एक युवक रवि गुप्ता को आयकर विभाग का नोटिस मिला था। जिसमें उसे साढ़े तीन करोड़ रुपये का भुगतान करने को कहा गया था।

नोटिस में लिखा था कि उसके नाम के बैंक खाते से तकरीबन 132 करोड़ रुपये का लेनदेन हुआ है। मीडिया से बातचीत में रवि गुप्ता ने कहा कि उसकी मासिक आय महज 6 हजार रुपये है, वो कहां से साढ़े तीन करोड़ रुपये का भुगतान करेगा

admin